ठोस कानून बना लव जिहादियों पर सरकार कसे शिंकजा: विहिप

राज्यपाल से की मुलाकात,लव जिहाद पर नियंत्रण करने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन कहा: सरकार कानून को अमल में लाकर धर्म स्वतंत्रता विधेयक- 2019 को विधिवत कानून बनाकर करें लागू

0
245

विश्व हिन्दू परिषद के प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से मुलाकात की। हिमाचल प्रदेश में “धर्म की स्वतन्त्रता विधेयक -2019” विधेयक के नियमों को लागू करने एवं प्रदेश में लव जिहाद के विरुद्ध कानून बनाने के बारे में विहिप के प्रांत सह मंत्री सुनील जसवाल के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांग रखी साथ ही उन्हें इस संबंध में ज्ञापन भी सौंपा। यह जानकारी विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत संगठन मंत्री नीरज दौनेरिया ने आज शिमला से प्रैस को जारी एक वक्तव्य में दी। उन्होंने कहा कि विश्व हिन्दू परिषद का एक प्रतिनिधि मंडल अभी हाल ही में कानून मंत्री सुरेश भारद्वाज से भी मिला था जिससे प्रदेश सरकार हिमाचल प्रदेश में धर्म स्वतन्त्रता विधेयक- 2019 के नियमों को लागू करने का आग्रह किया गया था।

संगठित नेटवर्क बनाकर चला रहे लव जिहाद:

देव भूमि हिमाचल प्रदेश में बड़े पैमाने पर भोली-भाली हिन्दू लड़कियों को मुस्लिम समुदाय के लोग अपना शिकार बना रहे हैं। इस समुदाय के लोग बड़ी मात्रा में बाहरी राज्यों से काम के कारण आ रहे हैं। समुदाय के लोग हेयर सैलून, ब्यूटी पार्लर, फर्नीचर ,फल बेचने , सेब के बागानों में कार्य कर रहे हैं इसके अलावा फेरी लगाकर कंबल बेचने, पर्यटन व्यवसाय में कार्य करने वाले मुस्लिम समुदाय के लोग संगठित नेटवर्क बनाकर अपने मुस्लिम नाम को छिपाकर छद्म हिन्दु नाम बताकर लड़कियों को लव जिहाद का शिकार बना रहे हैं।

जिलों में बढ़े लव जिहाद मामले:

उन्होंने बताया कि कुछ वर्षों में बड़े पैमाने पर हिन्दू लड़कियां लव जिहाद का शिकार हुई है। जिनकी एफ.आई.आर, प्रदेश के विभिन्न थानों में है। सिरमौर, पांवटा साहिब, नाहन, नालागढ़, परवाणु, सोलन शिमला, ठियोग, रामपुर ,रोहडू, नेरवा, चौपाल, बिलासपुर,सुंदरनगर ,मंडी, सरकाघाट ,कुल्लू-मनाली, जोगिन्द्रनगर, कांगड़ा, पालमुपर ,नूरपुर, चम्बा, तीसा, ऊना स्थानों में लव जिहाद घटनायें सबसे अधिक ध्यान में आई हैं।

जिहाद के नाम पर लव :

उन्होंने कहा कि लव जिहाद की यह बढ़ती घटनाएं सोची समझी साजिश के तहत संगठित रुप से संचालित की जा रही है। ऐसा लगता है कि मानों जिहाद के लिए लव किया जा रहा है | विश्व हिन्दू परिषद कई वर्षों से लव जिहाद के मामलों को प्रदेश सरकार को बताता रहा है पर कोई ठोस कानून न होने के कारण कानूनी कार्यवाही से अपराधी बचकर निकल जाते हैं, और हिन्दू लड़कियों का जबरन ‘धर्म परिवर्तन विवाह’ के नाम पर कर रहे हैं।

प्रदेश में भी बने ठोस कानून:

सितम्बर 2009 केरल हाईकोर्ट ने भी कहा 1996 से यह सिलसिला जारी है इसमें कुछ मुस्लिम संगठन शामिल है जो घरों की हिन्दू लड़कियों को टारगेट कर रहे हैं। इन मामलों को देखते हुए अदालत ने सरकार को लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने के लिए कहा है। अभी हाल ही में उत्तरप्रदेश हाई कोर्ट ने ऐसे ही मामले में कहा है कि विवाह के लिए धर्म बदलना जरूरी नहीं। वर्ष 2011 में कर्नाटक विधानसभा में लव जिहाद के 84 लड़कियों का मामला उठाया गया जिसमें से 69 लड़कियों की बरामदगी के बाद उन्होंने यह स्वीकार किया कि उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया। हरियाणा के मेवात क्षेत्र में लव जिहाद के नाम पर कुमारी निकिता तोमर की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी गई। परिषद ने कहा कि ऐसी किसी बड़ी अन्य घटना का इंतजार करने से बेहतर है कि लव जिहाद का कानून हिमाचल में भी अन्य राज्यों की तरह बना लिया जाए ताकि देव भूमि हिमाचल की बहन बेटियां सुरक्षित अपने हिन्दू जीवन मुल्यों में जीवन जी सकें।

धर्म स्वतंत्रता विधेयक – 2019 को विधिवत कानून बनाकर करें लागू:

परिषद ने कहा कि धर्म स्वतंत्र विधेयक-2019 धर्मांतरण के विरुद्ध हिमाचल सरकार ने कानून विधानसभा में पारित किया था लेकिन उस कानून के अभी तक नियम/उपनियम लागू नहीं किए जाने के कारण यह कानून अभी तक अमल में नहीं लाया जा सका है जिसके कारण प्रदेश में लव जिहाद, धर्मान्तरण करने वाले अपराधियों के हौसले बुलंद है। विश्व हिन्दू परिषद ने हिमाचल प्रदेश सरकार से कानून को अमल में लाकर धर्म स्वतंत्रता विधेयक – 2019 को विधिवत कानून बनाकर लागू करें। प्रदेश में धर्मांतरण और लव जिहाद के षडयंत्र को रोकने के लिए विश्व हिंदू परिषद ने हिमाचल प्रदेश सरकार से कानून को अमल में लाकर धर्म स्वतंत्रता विधेयक- 2019 को विधिवत कानून बनाकर लागू करने की मांग की है।
इस अवसर पर प्रांत सह मंत्री सुनील जसवाल , प्रांत संगठन मंत्री नीरज दौनेरिया, प्रांत सह विशेष सम्पर्क प्रमुख अनिल ठाकुर, विभाग अध्यक्ष शिमला आशुतोष अग्रवाल और शिमला प्रचार प्रमुख भागेश शर्मा उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here