कड़ी मशक्कत के बाद बीएसएफ के रिटायर डीआईजी एस सी नेगी का निकाला शव

दो दिन पूर्व आईटीबीपी की आखिरी पोस्ट की तरफ जाते हुए पैर फिसलने से गहरी खाई में गिर गए थे डीआईजी नेगी। गांव दूर और रास्ता दुर्गम होने से शव पहुंचाने में लगेंगे 3 दिन,स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट से की हैलीकॉप्टर की मांग

2
204

किन्नौर में नेसंग गांव से आगे आईटीबीपी की आखिरी पोस्ट की तरफ जाते हुए बीएसएफ के रिटायर डीआईजी एससी नेगी की गहरी खाई में गिरकर मृत्यु हो गई है। आईटीबीपी के जवानों द्वारा रिटायर डीआईजी के शव को कड़ी मशक्कत के बाद खाई से निकाल लिया गया है। शव को गंगटोक हैलीपैड की तरफ लाया जा रहा है और शाम तक शव के पहुंचने की संभावना है।

जानकारी के अनुसार बीएसएफ के रिटायर डीआईजी एससी नेगी निवासी नेसंग 2 दिन पहले सीमावर्ती गांव नेसंग से आगे आईटीबीपी की अंतिम पोस्ट की तरफ स्थानीय लोगों व आईटीबीपी के जवानों के साथ दुर्गम रास्ते से पैदल जा रहे थे। इस दौरान रास्ते में उनका अचनाक पैर फिसल गया, जिसके चलते वह गहरी खाई में जा गिरे और उनकी मौत हो गई।

वहीं जिलाधीश किन्नौर गोपाल चंद ने बताया कि पिछले कल प्रशासन को इस हादसे की सूचना मिली थी। उन्होंने बताया कि रिटायर डीआईजी के शव को आईटीबीपी जवानों द्वारा गंगटोक हैलीपैड तक लाया जा रहा है। डीआईजी नेगी का गांव दूर और रास्ता भी दुर्गम होने से शव को उनके गांव नेसंग तक पहुंचाने के लिए लगभग 3 दिन का समय लग जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रशासन द्वारा स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट से हैलीकॉप्टर की मांग की है ताकि उनके शव को पूह हैलीपैड तक पहुंचाया जा सके और वहां से उनके घर भेजा जा सके। अभी तक यह भी पता नहीं लग पाया है कि वे उस तरफ क्यों जा रहे थे।

2 COMMENTS

  1. 1999 कारगिल युद्ध में बीएसएफ सेना सभी के हौसले अफजाई करने आए थे दुनिया के सबसेबड़ा ऊंचाई पर के रणक्षेत्र में एक नहीं दो बार, साथ नैतिकता मानवीयता
    पहाडों पर जीने के जीवन शैली में भी हमें दक्षता दिए
    बन्दे मातरम
    कारगिल कालखंड से कोरोना कालखंड
    अहिंसा परमो धर्मः किन्तु राष्ट्र के सम्मान की कीमत पर नहीं # जय हिंद सर सुनेंगे आत्मा अमर कथा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here