प्रदेश को सरकार की विरोधाभासी नीतियों के भुगतने होंगे गंभीर परिणाम ..राठौर

बिना पंजीकरण और प्रमाणपत्र के प्रवेश कर रहे लोग ..सरकार का नहीं कोई नियंत्रण .. सड़क पर उतरने की दी कांग्रेस ने चेतावनी

0
210

देश-प्रदेश की भाजपा सरकार पर आज एक बार फिर कांग्रेस पार्टी तल्ख़ हुई। कोरोना की वर्तमानिक स्तिथि पर केंद्र और राज्य सरकार को घेरते हुए कांग्रेस ने सरकार पर नाकामी का आरोप लगाया। पार्टी मुख्यालय राजीव भवन में संपन्न हुई पत्रकार वार्ता के दौरान प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर ने कहा कि सरकार कोरोना मामले में दिशाहीन और बिना किसी ठोस योजना के चल रही है। उन्होंने सरकार से अपने राज्य की सीमाएं खोलने संबंधी निर्णय को वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि सरकार का यह फैसला जनता के हित में नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी अगर उनकी मांग को सरकार नहीं मानती है तो कांग्रेस सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन करेगी। साथ ही उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि कांग्रेस 9 जुलाई से शुरू होने वाले वन महोत्सव के अंतर्गत प्रदेश के सभी खंडों में वृक्षारोपण करेगी जिसकी शुरुआत वह स्वयं क्लस्टन क्षेत्र में पौधारोपण से करेंगे।

पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए राठौर ने कहा कि आज देश भर में कोरोना की स्तिथि बेहद गंभीर हो चुकी है। आज विश्व भर में देश संक्रमण के मामले में तीसरे पायदान पर है और ऐसी अवस्था में अब देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के सामने हाथ खड़े कर दिए हैं और देशवासियों को कोरोना के हवाले कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि कोरोना काल के शुरुआत में जब इस वायरस पर अंकुश लगाया जा सकता था,उस वक्त सरकार नमस्ते ट्रंप और मध्य प्रदेश में उनकी सरकार को गिराकर अपनी सरकार बनाने में व्यस्त रही। बिना किसी प्लानिंग के देश में लॉक डाउन घोषित कर दिया जो कि पूरी तरह से विफल रहा और अब सरकार के पास अनलॉक की भी कोई निश्चित योजना नहीं है।

राज्य की सीमाएं खोलना सही नहीं,होंगे गंभीर परिणाम :

हिमाचल प्रदेश में कोरोना की स्तिथि पर चिंता जाहिर करते हुए कुलदीप राठौर ने कहा कि आज प्रदेश में सरकार की गलत नीतियों और निर्णयों के कारण ही कोरोना संक्रमण के आंकड़े हजार पार हो चुके हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार बिना किसी प्रोटोकॉल के बाहरी राज्यों से लोगों को प्रवेश दे रही है। केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के तहत बिना राज्य की स्तिथि स्पष्ट किए पर्यटकों के लिए राज्य की सीमाएं खोल दी, जबकि प्रदेश के लिए इस निर्णय के गंभीर और महंगे परिणाम होंगे। उन्होंने कहा कि सरकार का यह निर्णय उचित नहीं है। राठौर ने कहा कि प्रदेश में सैंकड़ों गाड़ियां राज्य में प्रवेश कर रही हैं। लोग बिना किसी पंजीकरण और प्रमाणपत्र के अंदर आ रहे है। यहां तक कि उनको कोरेंटिन में रहने की भी आवश्यकता नहीं है, वहीं प्रदेशवासियों को 14 दिन कोरेंटिन में रहना होगा। सरकार की इस विरोधाभासी नीति के कारण प्रदेश में कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। उन्होंने सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि सरकार का स्थिति पर कोई नियंत्रण नहीं है। सरकार की नीतियों का होटल व्यवसायी और व्यापारी वर्ग भी विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लगातार बढ़ते कोरोना मामलों से शिमला के ग्रामीण क्षेत्रों में भी डर का माहौल बन गया है। यहां पर स्वास्थ्य सुविधाएं नाम मात्र की हैं और संक्रमण फैलने की स्तिथि बेहद गंभीर हो सकती है।

उठाने होंगे ठोस कदम:

कुलदीप राठौर ने कहा कि सरकार कोरोना की स्तिथि पर काबू पाने के लिए कोई भी एतिहात नहीं बरत रही है और न ही कोई ठोस कदम उठा रही है। राज्य में लोग बिना किसी प्रमाणपत्र के घूम रहे हैं। सरकार एक और तो सामाजिक दूरी की बात करती है वहीं 100 % क्षमता के साथ बसें चलाने की अनुमति देकर खुद ही नियमों की धज्जियां उड़ा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार को केंद्र सरकार से सीमाओं के खोलने को लेकर अपने निर्णय को टालने का अनुरोध करना चाहिए। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि सरकार राज्य की सीमाओं में निर्धारित संख्या से ज्यादा प्रवेश की अनुमति न दें और इस संकट से प्रदेश को उभारने के लिए ठोस कदम उठाएं।

सड़कों पर उतरने की दी चेतावनी :

कुलदीप राठौर ने कहा कि सरकार अपनी विरोधाभासी नीतियों के कारण प्रदेश वासियों को संकट में डालने का काम कर रही है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार अपने निर्णय को नहीं बदलती है तो कांग्रेस सड़क पर उतरेगी और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा कि कोरोना मुक्त होने की कगार पर पहुंच चुके राज्य में आंकड़ा हजार के पार पहुंच गया है जो कि चिंताजनक है।

पार्टी करेगी 9 जुलाई से वृक्षारोपण :

कुलदीप राठौर ने जानकारी देते हुए कहा कि प्रदेश 9 जुलाई से वन महोत्सव मनाएगी। इस दौरान कांग्रेस 16 जुलाई तक राज्य के रेड जोन इलाकों को छोड़ कर बाकी सभी खंडों में वृक्षारोपण करेगी। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि इस वन महोत्सव की शुरुआत वह स्वयं शिमला के क्लस्टन में पौधा रोप कर करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here