जमीन को लेकर भाजपा के साथ धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति सोलन पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
103

सोलन: भाजपा की शमलेच के समीप एक बीघा जमीन को किसी अन्य को बेचने वाले जमीन मालिक व आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। कथित आरोपी बीते तीन दिन से पुलिस को चकमा दे रहा था। पुलिस द्वारा इसे दोपहर बाद गिरफ्तार किया है। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार, धोखाधड़ी की शिकायत होने के बाद से ही कथित आरोपी शहर से फरार हो गया था। हालांकि पुलिस उससे संपर्क कर रही थी लेकिन संपर्क नहीं हो पा रहा था। इसके बाद पुलिस ने उसे सिरमौर जिला के नारग के समीप कालाघाट से उसके किसी रिश्तेदार के घर से पकड़ा है। पकडऩे के बाद पुलिस उसे सोलन लेकर आई। सोलन के क्षेत्रीय अस्पताल में मेडिकल जांच के बाद पुलिस उसे पूछताछ के लिए लेकर गई। पूछताछ के दौरान ही उसे अरेस्ट किया गया।

मामले में होंगे क़ई खुलासे

पुलिस को उम्मीद है कि अब मामले में कई खुलासे होंगे और इस धोखाधड़ी में और कितने व कौन-कौन लोग है इसका भी खुलासा हो सकता है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इसमें कुछ भाजपा के नेता भी पुलिस की राडार पर हो सकते हैं और उनसे भी पूछताछ की जा सकती है। इस मामले में सूत्रों कि माने तो भाजपा कार्यालय के लिए भूमी खोजने एवम ज़मीन का सौदा करवाने वाले भाजपा के एक नेता की एहम भूमिका बताई जा रही है , क्योंकि ज़मीन के मालिक का पता और नंबर उसी के पास था , परन्तु वास्तविकता का तो जांच के बाद है पता लग पाएगा । लेकिन शहर में चर्चाओं का माहौल गर्म है कि इस मामले से जुड़ा भाजपा से संबंध रखने वाला व्यक्ति कई अधिवक्ताओं के पास बेल की बात करने जा चुका है ।

लैटर लिख घर से फरार था कथित आरोपी

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को गुमराह करने के लिए कथित आरोपी ने एक पत्र लिखा था। इस पत्र को घर पर ही छोड़कर गया था। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि इस पत्र में क्या लिखा था। लेकिन सूत्र कहते हैं कि इसमें अपने आप को नुकसान पहुंचाने की कोई बात कही गई थी।

क्या था पूरा मामला

बीते शुक्रवार को भाजपा जिला अध्यक्ष आशुतोष वैद्य ने पुलिस को एक शिकायत दी थी। शिकायत में कहा गया था कि भारतीय जनता पार्टी सोलन में अपना पार्टी कार्यालय बनाने जा रही थी। इसके लिए उन्होंने सोलन में एक जमीन देखी और जमीन के मालिक को 35 लाख व 50 लाख की दो किश्त एडवांस में दी। केवल 5 लाख रुपए ही रजिस्ट्री के दौरान देने थे। इसके बाद कार्यालय बनाने के लिए दस्तावेज एकत्रित करके धारा 118 के तहत परमिशन के लिए मामला सरकार के पास भेजा गया। बताया जा रहा है कि परमिशन लेने के लिए पूर्व पार्षद ने काफी दौड़ भाग की थी। लेकिन इसी बीच भूमि मालिक ने यह भूमि किसी अन्य व्यक्ति को बेच दी।

कैसे हुआ मामला उजागर

जानकारी के अनुसार भाजपा राष्ट्रीय कार्यालय निर्माण समिति के संयोजक का सोलन दौरा है। इससे पूर्व ही भाजपा द्वारा खरीदी जा रही जमींन की सुुध ली। राजस्व विभाग से जब जमींन की फर्द निकाली गई तो पता चला कि जिस जमीन की भाजपा द्वारा 85 लाख रुपए की अदायगी हो गई थी उस जमीन को किसी और व्यक्ति को 26 लाख रुपए में बेचा गया।

118 के तहत नहीं ले सके मंजूरी

मामला वर्ष 2016 का है। जब भाजपा द्वारा शमलेच के पास कार्यालय के लिए 1 बीघा जमीन देखी गई। 90 लाख रुपए तय होने के बाद भाजपा द्वारा 35 व 50 लाख रुपए की दो किश्तों में अदायगी की गई और बकाया राशी धारा 118 की परमिशन के बाद देय थी। लेकिन अभी तक भाजपा धारा 118 की ही परमिशन नहीं ले सकी जबकि प्रदेश में बीते तीन वर्षों से भाजपा की ही सरकार है।

क्या कहते है एसपी

एसपी सोलन अभिषेक यादव का कहना है कि धोखाधड़ी मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। रविवार को इससे सिरमौर जिला के नारग के समीप कालाघाट से पकड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here