ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने की विकास कार्यों की समीक्षा

0
271

rural-development-minister-anil-sharma-presiding-over-a-review-meeting-1
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री अनिल शर्मा ने आज शिमला मंडल के सभी जिलों में ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के अंतर्गत चल रहीे विकास कार्यो की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। उन्होेंने स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश को शौच-मुक्त राज्य बनने के लिए प्राप्त राष्ट्रीय सम्मान का श्रेय सम्बन्धित विभाग के अधिकारियोें, कर्मचारियों व आम जनता को दिया। शर्मा ने उपस्थित खंड विकास अधिकारियों को मनरेगा के तहत अपने क्षेत्र की पांच ग्राम पंचायतो के लिए बडी-बड़ी परियोजनाओं के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए ताकि इन क्षेत्रों का अधिक विकास सुनिश्चित कर आदर्श पंचायत बनाया जा सके। उन्होंने जिला प्रशासन को सुझाव दिया कि ग्रामीण क्षेत्रों में वर्षा जल संग्रहण तालाब, पार्क का निर्माण, विद्युतीकरण तथा उस क्षेत्र के सौदर्यकरण के लिए सजावटी पौधरोपण करें जिससे ये स्थल स्थानीय व पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन सके।
rural-development-minister-anil-sharma-presiding-over-a-review-meeting-2
अनिल शर्मा ने खंड विकास अधिकारियोे को कहा कि वे पंचायत घरांे, आंगनबाड़ी केंद्रो के भवन निर्माण लिए सरकारी सरकारी भूमि उपलब्ध करवाने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि विभिन्न योजनाओें के तहत केद्र द्वारा प्राप्त बजट को निर्धारित समयावधि में खर्च किया जाना चाहिए ताकि आगामी बजट में पर्याप्त राशि उपलब्ध हो सके। उन्होंने शिमला जिला के चौपाल मेें शौचालय निर्माण मेे प्राप्त सफलता की सराहना की। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रोे मेे हुए अभूतपूर्व विकास का श्रेय सम्बन्धित विभाग के अधिकारियो व कर्मचारियो को जाता है।

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने गांवोे मेें पूर्ण स्वच्छता लाने के लिए कूडे़ कचरे के सही निष्पादन के लिए स्थायी डस्टबीन के निर्माण, गंदे पानी की निकासी के लिए पक्की नालियों का निर्माण पर बल दिया। उन्होंने कहा कि अधिकारी सुनिश्चित करें कि गांव में शत-प्रतिशत निजी शौचालयों का प्रयोग किया जाए। उन्होंने ग्राम वासियों को ‘आधार’ से जोडने के लिए अपने प्रयासों में और अधिक तीव्रता लाने को कहा। ग्रामीण विकास के सचिव ओंकार शर्मा ने खंड विकास अधिकारियों को विकास योजनाओं के क्रियान्वयन में होने वाली समस्याओं के समाधान के लिए विभाग को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए। उन्होने खंड विकास अधिकारियेां को ग्राम पंचायतों व नगर परिषदों में चल रही विकास परियोजनाओं तथा ऑडिट पैरों की प्रगति का अनुश्रवण करने पर बल दिया।

निदेशक, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज श्री आर. सेलबम ने कहा कि प्रत्येक अधिकारी का दायित्व बनता है कि वह अपने दायित्व के निर्वहन को श्रेष्ठता से करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कड़ी मेहनत व आपसी तालमेल से ही विभाग बेहतर लक्ष्य प्राप्त कर सकेगा। बैठक में मुख्य संसदीय सचिव सोहनलाल, उपायुक्त शिमला रोहनचंद ठाकुर, उपायुक्त सिरमौर बी.सी.बड़ालिया, उपायुक्त सोलन राकेश कंवर, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग के वरिष्ठ अधिकारी तथा खंड विकास अधिकारी, जिला पंचायत अधिकारी उपस्थित उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here