सरकार से एक बार फिर लगाई राहत की उम्मीद ..

निजी बस ऑपरेटर्स का सरकार से आग्रह घोषित वर्किंग कैपिटल को शीघ्र करें लागू साथ ही टैक्स भी करें माफ

0
211
हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेश पाराशर और प्रदेश महासचिव रमेश कमल

हिमाचल प्रदेश निजी बस और संघ ने सरकार से आग्रह किया है कि सरकार द्वारा निजी बस ऑपरेटर्स के हितों को ध्यान ने रखते हुए घोषित की गयी वर्किंग कैपिटल की घोषणा को शीघ्र अमलीजामा पहनाया जाए। संघ की ओर से जारी एक बयान में हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेश पाराशर एवं प्रदेश महासचिव रमेश कमल ने कहा कि सरकार ने घोषणा की थी कि हिमाचल प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर्स को कोरोना वायरस से सुरक्षा के मद्देनजर सरकार द्वारा घोषित लॉकडाउन से हुए नुकसान की भरपाई और अपने व्यापार को सुचारू रूप से चलाने के लिए प्रति बस दो लाख रूपये वर्किंग कैपिटल के रूप में लोन दिया जाएगा, लेकिन अभी तक इस घोषणा को धरातल में लागू नहीं किया गया है जिस कारण निजी बस ऑपरेटर्स को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पर्याप्त आमदनी न होने से नहीं कर पा रहे खर्चे पूरे :

अध्यक्ष राजेश पराशर ने कहा कि सरकार के आदेशानुसार हिमाचल प्रदेश में निजी बस ऑपरेटर्स ने जनता की सुविधा के लिए बसें चला कर सरकार का साथ दिया है जिससे जनता को भी सुविधा मिल रही है लेकिन बसों में नाम मात्र की सवारियां होने के कारण प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर्स की आय नहीं हो पा रही है। आर्थिक लाभ न हो पाने के कारण ऑपरेटर्स ना तो डीजल का खर्चा निकाल पा रहे हैं और ना ही चालक परिचालक की तनख्वाह साथ ही दूसरे खर्चे भी नहीं निकाल पा रहे हैं।

किश्त भरने के लिए बैंक डाल रहे दवाब:

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि बैंक लोन की किश्तें भी खड़ी हो गई है तथा बैंक कर्मचारी भी बार-बार किश्त भरने के लिए दबाव डाल रहे है। इसके अलावा ऑपरेटर्स टैक्स के भी डिफॉल्टर हो रहे हैं। जबकि सरकार ने निजी बस ऑपरेटर्स को टैक्स माफ करने का आश्वासन दिया है ।

वर्किंग कैपिटल को शीघ्र पहनाया जाए अमलीजामा:

वहीं राज्यसचिव रमेश कमल ने कहा कि निजी बस ऑपरेटरों के हाथ खड़े हो गए हैं तथा कंगाली उनके द्वार पर दस्तक दे रही है इसलिए प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर्स का टैक्स माफ करना अति आवश्यक है। उन्होंने सरकार से प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर्स का 31 मार्च 2021 तक का टैक्स माफ करने का आग्रह किया है। साथ ही उन्होंने वर्किंग कैपिटल की घोषणा को भी शीघ्र अमलीजामा पहनाए जाने का आग्रह किया ताकि निजी बस ऑपरेटर्स जनता को सुचारू रूप से सेवा दे सकें।

सरकार से फिर राहत की उम्मीद :

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि जिस तरह से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर एवं परिवहन मंत्री विक्रम ठाकुर ने निजी बस ऑपरेटर्स की समस्याओं को समझा है अब भी ठीक उसी तरह संघ की मांगों को मान कर निजी बस ऑपरेटर्स को राहत प्रदान की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here