शिवसेना-कांग्रेस की सरकार ने कंगना का दफ्तर तोड़ दिया घटिया राजनीति का परिचय : राकेश जम्वाल

महाराष्ट्र की सरकार को आने वाले समय में भुगतने होंगे परिणाम

0
99


सुंदरनगर : हिमाचल प्रदेश में कंगना रनौत का मामला लगातार गर्माता जा रहा है। मामले को लेकर भारतीत जनता पार्टी हिमाचल प्रदेश के महामंत्री एवं सुंदरनगर विधानसभा क्षेत्र के विधायक राकेश जम्वाल ने भी महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने इस सारे प्रकरण को महाराष्ट्र में सत्ताधारी शिवसेना व कांग्रेस गठबंधन सरकार की घटिया राजनीति का परिचय करार दिया है। उन्होंने महाराष्ट्र सरकार के इस कायरतापूर्ण कृत्य के लिए आमजन की आवाज दबाने का भी आरोप लगाया गया है।

राकेश जम्वाल ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार कंगना रनौत की सुरक्षा में किसी भी प्रकार की कोई चूक नहीं आने देगी। 
उन्होंने कहा कि हिमाचल की बेटी कंगना रणौत ने फिल्म जगत में प्रदेश के साथ देश का नाम ऊंचा किया है। यह हिमाचल प्रदेश के लोगो के लिए गर्व का विषय है लेकिन महाराष्ट्र में जो कंगना रनौत के साथ किया जा रहा है उससे महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस की गठबंधन की सरकार का चेहरा बेनकाब हुआ है। उन्होंने कहा की हर इंसान को बोलने की आजादी है और जिस प्रकार से कंगना रनौत की आवाज को दबाया जा रहा है वह बहुत ही शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि कंगना रनौत ने जो खुले शब्दों में कहा वह शिवसेना और कांग्रेस की सरकार को रास नहीं आया। इस कारण कंगना रनौत के खिलाफ कार्यवाही की गई है और यह बहुत ही घटिया राजनीति का परिचय है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश की जयराम सरकार कंगना रनौत और उनके परिवार के साथ हैं। राकेश जम्वाल ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व प्रदेश मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पहले ही उनकी सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम करके रखे हैं। कंगना की सुरक्षा को लेकर कहीं चूक नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इस घटना के लिए महाराष्ट्र की शिवसेना और कांग्रेस की गठबंधन की सरकार की निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में अत्याधिक अवैध निर्माण किया गया है ,लेकिन उन्हें तोड़ने के लिए महाराष्ट्र की सरकार आगे नहीं आ सकी। उन्होंने कहा की कंगना रनौत के दफ्तर को तोड़ने के लिए इस गठबंधन सरकार को आने वाले समय में परिणाम भुगतने पड़ेगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here