पुलिस फोर्स में महिलाओं को शामिल करने वाला हिमाचल पहला राज्य

0
149

Police women
महिलाओं को पुलिस में भर्ती करने वाला हिमाचल प्रदेश देश के सभी राज्यों की अग्रणी पंक्ति में खड़ा है। हिमाचल प्रदेश के अस्तीत्व में आने के चार साल बाद ही 1975 में प्रदेश पुलिस विभाग में 27 महिला पुलिस कांस्टेबलों को भर्ती किया गया था। जो कि पुरे देश में हिमाचल प्रदेश की अेार से नई पहल थी। इन 27 महिला पुलिस कांस्टेबलों को ट्रेनिंग के बाद विभिन्न स्थानो में सेवाओं के लिए पोस्टीड किया गया था। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश महिलाओं को पुलिस में भर्ती करने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं। अभी प्रदेश के पुलिस विभाग में जवानों की कुल संख्या में से 11 फीसदी महिलाएं है। प्रदेश पुलिस की ओर से जारी की गई काफी टेबल बुक में हिमाचल प्रदेश पुलिस के गौरवशाली इतिहास से लेकर प्रदेश पुलिस की अेार से पुरे देश में पहली बार महिला पुलिस कांस्टेबलों को भर्ती करने बारे में भी विस्तार से जानकारी दी गई है।

वर्ष 2000 से हरेक पुलिस थाना में सेवांए दे रही हैं तीन महिला कांस्टेबल

महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में कमी लाने और महिला सुरक्षा को बढावा देने के लिए हिमाचल पुलिस विभाग ने वर्ष 2000 में हरेक पुलिस थाने में महिला पुलिस कांस्टेबलों को तैनात करने का फैसला लिया। इसके तहत प्रदेश के हरेक पुलिस थाने में तीन महिला कांस्टेबलों को तैनात किया गया। प्रदेश पुलिस की अेार से शुरू की गई इस पहल को भी पुरे देश में सराहा गया। पुलिस विभाग के इस फैसले के बाद प्रदेश में महिलाओं के साथ अपराध के मामलों में कमी आंकी गई है।

अगस्त 2008 में बनाई थी पहली महिला बटालियन
हिमाचल पुलिस की ओर से अगस्त 2008 में आल वूमन बटालियन बनाई गई थी। इस बटालियन को बस्सी में रखा गया है। इसके अलावा प्रदेश पुलिस विभाग की ओर से महिलाओं को पुलिस में वरियता देने और महिलाओं को पुलिस थानों में आने की झिझक को दूर करने के लिए तीन महिला पुलिस थाने भी खोले गए हैं। शिमला, मंडी और धर्मशाला में खोले गए इन पुलिस थानों में सारा स्टाफ महिलाओं का ही रखा गया है।

महिलाओं को पुलिस में वरियता देने वाला दूसरा राज्य
महिलाओं को पुलिस सेवा में वरियता देने के मामले में हिमाचल प्रदेश पूरे देश में दूसरे नंबर पर है। प्रदेश पुलिस में 11 फीसदी महिलांए हैं। इसके अलावा प्रदेश पुलिस विभाग ने भविष्य में इसे 33 फीसदी करने का लक्ष्य रखा है। साथ ही प्रदेश के हरेक जिले में महिला पुलिस थाने खोलने का भी लख्य रखा है ताकि महिला सशक्तिकरण को बढावा मिल सके और महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों के मामलों में भी कमी आ सके।

इन महिला पुलिस अधिकारियों ने भी किया है प्रदेश का नाम रोशन
हिमाचल प्रदेश की आईपीएस अधिकारी सतवंत अटवाल को देश के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल में पहली बार डीआईजी के पद पर पहली महिला होने का गौरव प्राप्त है। 1996 बैच की हिमाचल प्रदेश कैडर की सतवंत अटवाल एनआईए और यूएन मिशन में भी अपनी सेवांए दे चुकी हैं। इसके अलावा आईपीएस शालिनी अग्निहोत्री ने भी 65 वें आईपीएस बैच में टाप आईपीएस प्रोबेशनर अधिकारी होने का गौरव प्राप्त कर प्रदेश का नाम रोशन किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here