कोविड-19 संक्रमण रोकथाम के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में सघन जागरूकता अभियान

0
566

सोलन। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग सोलन द्वारा कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में भी सघन बचाव एवं जागरूकता अभियान कार्यान्वित किया जा रहा है। इस कार्य में स्वयंसेवी संस्थाओं की सहायता ली जा रही है। यह जानकारी आज यहां जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. अजय सिंह ने दी।

उन्होंने कहा कि अभियान के माध्यम से लोगों को कोविड-19 महामारी के विषय में जागरूक करने के साथ-साथ ग्रामीण स्तर पर लोगों को कोविड जांच के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है।
डाॅ. अजय सिंह ने कहा कि कोविड-19 से बचाव में सुरक्षा उपायों की अनुपालना ही कारगर है और इसके लिए आवश्यक है कि कोरोना संक्रमण की समय-समय पर जांच करवाई जाए। उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए जनचेतना अभियान कार्यान्वित किया जा रहा है। जनचेतना अभियान के तहत विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से जिला के ग्रामीण स्तर तक लोगों को कोविड-19 परीक्षण के लिए प्रेरित किया जा रहा है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में आज सोलन के सुबाथू स्थित केन्टोमेंट जनरल हाॅस्पिटल (सीजीएच) में स्वयंसेवी संस्था हेल्प ऐज इंडिया के सहयोग से 11 व्यक्तियों की कोविड जांच की गई। सीजीएच सुबाथू की टीम द्वारा स्थानीय लोगों को यह सुविधा प्रदान की गई।

डाॅ. अजय सिंह ने कहा कि कोविड-19 जैसी भयावह बीमारी की रोकथाम के लिए ‘जहां बीमार, वहीं उपचार’ की पद्धति अपनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि जिला के विभिन्न गांवों में लोगों को कोविड-19 परीक्षण के लिए प्रेरित किया जा रहा है। अभियान के अन्तर्गत 26 ग्रामीण क्षेत्रों में इस अभियान के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। एक ओर जहां लोग स्वेच्छा से परीक्षण के लिए तैयार हो रहे हैं वहीं टीकाकरण के प्रति भी रूचि दिखा रहे हैं।

सीजीएच सुबाथू के डाॅ. शैलेन्द्र अवस्थी तथा डाॅ. सतिन्द्र कुमार ने अवगत करवाया कि सीजीएच अस्पताल में अब कोविड-19 जांच की सुविधा उपलब्ध रहेगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को कोविड-19 जांच के लिए अब सोलन या धर्मपुर नहीं जाना पड़ेगा। क्योंकि यह सुविधा अब सुबाथू में ही उपलब्ध है।

उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि खांसी, जुखाम तथा बुखार के लक्षण होने पर अपनी कोविड जांच करवाएं तथा समीप के चिकित्सा केन्द्र में जाकर चिकित्सक की सलाह लें। इस कार्य में देरी रोगी के लिए गम्भीर परिणाम उत्पन्न कर सकती है।
इस अवसर पर हेल्प ऐज इंडिया के परियोजना प्रभारी मनोज राज वर्मा, पैरामेडिकल स्टाफ तथा अन्य उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here