दुर्गम क्षेत्रों में जीवन धारा के माध्यम से किए जा रहे हैं कोरोना टेस्ट

0
237

शिमला। स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 से निपटने के लिए दूर-दराज के क्षेत्र के लोगों को जीवन-धारा के माध्यम सेे रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की सुविधा प्रदान की जा रही हैं। ऐसे क्षेत्रों के लोगों को उनके घर-द्वार पर कोविड संबंधी सेवाएं प्रदान करने के लिए जीवन धारा मेडिकल मोबाइल यूनिट महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहीं हैं।
उन्होंने कहा कि जीवन धारा के अन्तर्गत की जा रही टेस्ंिटग में अब तक प्रदेश के 7 जिलों में 10 मेडिकल मोबाइल यूनिट के माध्यम से 5267 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए है, जिनमें 543 मामले कोविड पाॅजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के जिला मंडी में किए गए 1398 टेस्ट में 66, कांगड़ा में 1137 में 218, शिमला में 912 में 98, कुल्लू में 672 में 47, सोलन में 534 में 27, चंबा में 318 में 67 और जिला सिरमौर में 296 में 20 मामले पाॅजिटिव पाए गए हैं। जीवन धारा के माध्यम से किए जा रहे टेस्ट में पाॅजिटिविटि दर 10.3 प्रतिशत हैं।
प्रवक्ता ने कहा कि दूर-दराज व दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की कोविड टेस्टिंग को बढ़ाने के लिए जीवन धारा के माध्यम से सुविधा प्रदान की जा रही हैं ताकि समय पर कोविड के मामलों का पता लगा कर उनका उपचार सुनिश्चित किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here