सुबह उठते ही क्यों होती है थकान

0
48

कभी-कभी ऐसा होता है कि सुबह उठते ही हमारे शरीर में बिना किसी वजह के दर्द होने लगता है या हम पूरे दिन थकान का अनुभव करते हैं. इस समस्या का सबसे बड़ा कारण होता है शरीर में पोषण तत्वों की कमी होना। ऐसे में इन परेशानियों से मुक्ति पाने के लिए आपको पोषक देने वाले खाद्य पदार्थों के बारे में जान लेना चाहिए-

सुबह उठते ही क्यों होती है थकान
जब शरीर में विटामिन डी की कमी आती है तो इसका प्रभाव आपके ब्लड प्रेशर पर भी पड़ता है। इसकी कमी से ब्लड प्रेशर बिगड़ने की वजह से आपको सुबह-सुबह घबराहट जैसी समस्या होती है। इसकी कमी से आप में रोगों से लड़ने की क्षमता कमजोर होने लगती है। डायबिटीज, हाइपरटेंशन भी इसी की कमी की वजह से ही होता है। डिप्रेशन जैसी समस्या को बढ़ाने में विटामिन डी की कमी का हाथ होता है।हड्डियों में दर्द, जकड़न, जोड़ों के दर्द की समस्या होने लगती है। कमजोरी बढ़ती जाती है, तभी तो सुबह उठने के बाद व्यक्ति थका हुआ महसूस करता है।

प्रोटीन :
शरीर के ऊतकों को बनाने, उनके रख-रखाव व मरम्मत में प्रोटीन की जरूरत होती है। दूध, सोयाबीन, अंडा, दाल, दूध व मांस में प्रोटीन होता है।
कैल्शियम :
हड्डियों और दांतों के अलावा मांसपेशियों और हृदय को ठीक रखता है। बढ़ते बच्चों के लिए जरूरी है। दूध, दही, पनीर, टोफू, पालक, ब्रोकली, में खूब सोयाबीन होता है।
फाइबर :
पाचन तंत्र को ठीक रखना है तो फाइबर युक्त चीजें खाएं। इसके लिए सेब, नाशपाती, ओट्स, साबुत अनाज व सूखे मेवे खाएं।
आयरन :
शरीर में खून बनाने और सब अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का काम आयरन का होता है। साबुत अनाज, बींस, मेवे, अनार, चुकंदर और हरी पत्तेदार सब्जियों में यह पर्याप्त होता है।

जरूरी बातें-

-हरी सब्जियों को कम तेल मसालों में बनाएं। ज्यादा देर भूनने या पकाने से बचें। ’
-नाश्ते में हमेशा ब्रेड, मक्खन और परांठे ही न खाएं। रोटी, सब्जी, दलिया, दही, अंकुरित अनाज आदि का सेवन भी करें। इससे शरीर को पर्याप्त पोषण मिलेगा।
-सब्जियों को उबालने के बाद उस पानी को भी इस्तेमाल में लाएं। उबालते समय सब्जियों के 5 से 55 प्रतिशत तक पौष्टिक तत्व पानी में घुल जाते हैं।
-अगर नाश्ता करने का समय नहीं है तो मुट्ठीभर अखरोट, बादाम और काजू जरूर खाएं। ताजे फल व सब्जियों का सेवन करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here