पाँच साल में हुए शहरी निकायों में अभूतपूर्व काम, स्मार्ट सिटी के कार्यो को मिली गति, शहरी विकास मंत्री ने गिनाई पांच साल की उपलब्धियां

0
57

करसोग। जयराम सरकार में पिछले पाँच वर्ष में प्रदेश में अभूतपूर्व विकास हुआ है।पिछले 10 वर्षों में शहरीकरण बहुत ज्यादा हुआ है।पहले एक नगर निगम हुआ करता था लेकिन अब 5 नगर निगम बनाये गए हैं नगर पंचायत और नगर परिषद भी बनाए गए हैं।पांच वर्षों में भाजपा ने मेनिफेस्टो में किए वादों से भी आगे बढ़ कर काम किया है।यह बात शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने अपने विभाग की पांच साल की उपलब्धियां गिनाते हुए कही।

सुरेश भारद्वाज ने कहा कि शहरी विकास के लिए 2022-23 में 183 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान किया गया है जो 2017 में 99 करोड़ के आसपास था।शहरी विकास कार्यो के लिए केंद्र सरकार से भी भरपूर मदद मिली है।शिमला और धर्मशाला स्मार्ट सिटी प्रदेश को केंद्र की बड़ी देन है।धर्मशाला स्मार्ट सिटी के 19 प्रोजेक्ट पूरे कर लिए हैं जबकि 2018 तक केवल चार ही प्रोजेक्ट पूरे हो पाए थे और 11.54 करोड़ रुपये ही खर्च हो पाए थे लेकिन 315 करोड़ खर्च कर लिए गए हैं।शिमला स्मार्ट के अंतर्गत 2018 तक कुछ बजी काम नहीं हो पाया था लेकिन आज 57 कंपोनेंट पूरे कर लिए गए हैं और 159 प्रोजेक्ट्स पाइप लाइन में है 358 करोड़ रुपये खर्च कर लिए गए हैं।अमृत मिशन के तहत भी शहरों की दशा बदल रही है और अब अमृत मिशन-2 से पूरे प्रदेश के शहरी इलाकों में पानी और सीवरेज की व्यवस्था सुदृढ़ होगी।252 करोड़ रुपये अमृत मिशन फेज-2 के अंर्तगत हिमाचल को दिया गया है।
सुरेश भारद्वाज ने कहा कि भविष्य के भारत में शहरीकरण तेजी से बढ़ रही है।इसको चुनौती न समझते हुए अवसर मानते हैं।इज ऑफ लिविंग में हिमाचल नंबर एक मे रहा है।आर्थिक स्थिति में इजाफा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here