जेजेएम के तहत कार्यों को गति प्रदान कर निर्धारित अवधि में पूरा करना सुनिश्चित करें अधिकारी

0
101

मशरूम उत्पादन के लिए अधिक से अधिक महिला मंडलों तथा स्वयं सहायता समूहों को जोड़ा जाए

कुल्लू । जल शक्ति, बागवानी, राजस्व तथा सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने आज कुल्लू स्थित परिधि गृह में जल शक्ति, राजस्व, बागवानी तथा सैनिक कल्याण विभाग के अधिकारियों से बैठक कर इन विभागों द्वारा चलाई जा रही विभिन्न विकासात्मक योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की।
   उन्होंने जल शक्ति विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह जिला में जेजेएम के तहत किए जा रहे कार्य को गति प्रदान कर निर्धारित अवधि में पूरा करें ताकि हर घर को नल व जल की समुचित आपूर्ति सुनिश्चित हो सके। उन्होंने कहा कि जेजेएम के तहत आनी उपमंडल के अंतर्गत दानों विकास खंडों में 43 पेयजल योजनाओं का कार्य चला हुआ है तथा इस पर 55 करोड़ रूपए व्यय किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जेजेएम के तहत 15-20 क्षेत्र में कुछ कार्य बचा हुआ है। सभी घरों को नल की सुविधा उपलब्ध हो, कोई भी घर नल की सुविधा से नहीं छूटना चाहिए। उन्होंने कहा कि एसजेवीएन से जो 9 करोड़ रूपए नित्थर क्षेत्र के लिए पेयजल योजना हेतु प्राप्त होने हैं उसके लिए टैंडर प्रक्रिया जारी कर शीघ्र इस राशि को एसजेवीएन से रिलीज करवाया जाए। लूहरी परियोजना में भी भूमि अधिग्रहण को लेकर भी चर्चा की गई।
     उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि पेयजल योजनाओं के निर्माण हेतु बड़े जल स्त्रोतों का प्रयोग किया जाए ताकि लोगों को समुचित मात्रा में पेयजल उपलब्ध हो और आगामी 30 वर्ष तक पेयजल की समस्या न हो। बंजार तथा आनी विधानसभा क्षेत्र में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत चल रही करोड़ों रूपए की सिंचाई योजनाओं को गति प्रदान करने को कहा गया ताकि हर किसान के खेत को सिंचाई की बेहतर सुविधा मिल सके।
       जल शक्ति मंत्री ने कहा कि सिंचाई तथा बाढ़ सुरक्षा के लिए अलग विंग बनाए जा रहे हैं जिससे बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में लोगों की उपजाऊ भूमि को संरक्षित करने की सुविधा मिलेगी। नगर पंचायत आनी व निरमंड में सीवरेज कार्य के लिए शीघ्र डीपीआर बनाकर सयरकार को स्वीकृति हेतु  भेजी जाए। मनाली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत लैफट तथा राईट बैंक पर 165 करोड़ रूपए की लागत से 14 पेयजल योजनाओं का निर्माण किया जाएगा। इसमें से 100 करोड़ रूपए की योजनाएं मनाली तथा 65 करोड़ रूपए की योजनाएं कुल्लू विधानसभा क्षेत्र में हैं। उन्होंने नावार्ड के अंतर्गत मनाली विधानसभा क्षेत्र में चल रहे पेयजल योजनाओं के कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को नावार्ड के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में भी सीवरेज कार्यों के लिए कार्य योजना तैयार करने को कहा।
        बागवानी विभाग के अधिकारयिों को निर्देश देते हुए जल शक्ति एवं बागवानी मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक से अधिक जागरूकता शिविरों का आयोजन कर लोगों को नवीनतम तकनीक से फलों की पैदाबार बढ़ाने के लिए जागरूक करें। उन्होंने कहा कि जिला कुल्लू की जलवायु मशरूम के उत्पादन के लिए अच्छी है इसलिए अधिक से अधिक लोगों को अपने घरों में ही मश्रूम उत्पादन के लिए प्रेरित एवं प्रोत्साहित करें। बैग के स्थान पर ट्रे में मशरूम उत्पदान के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए।  मशरूम उत्पादन के लिए  विशेषतया महिला मंडलों तथा स्वयं सहायता समूहों को जोड़ा जाए ताकि वे अपने समूह की गतिविधियों के साथ-साथ मशरूम उत्पादन से जुड़कर अपनी आर्थिकी को सुदृढ़ कर सकें। उन्होंने अमरीकन सेब के रूट स्टॉक पौधों के लिए एक बड़ा क्षेत्र तैयार करने को भी अधिकारियों को कहा ताकि अधिक से अधिक बागवानों को इसका लाभ मिल सके।
    इस अवसर पर उपायुक्त आशुतोष गर्ग, मुख्य अभियंता जल शक्ति विभाग मंडी क्षेत्र डा.धर्मेन्द्र गिल, एसी टू डीसी एस.पी. जसवाल, अधीक्षण अभियंता जल शक्ति विभाग कुल्लू के.आर. कुल्लवी तथा अन्य विभागों के अधिकारी भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here