घैणी शैदल की जनता भी नही रहना चाहती है नई बनी उप तहसील बगशाड में,,, एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन, रखी ये मांग

0
103

करसोग। करसोग उपमंडल में बनी नई उप तहसील में घेणी शैदल पंचायत को मिलाए जाने से जनता खुश नहीं है। इस बारे में घैणी शैदल की प्रधान दीक्षा शर्मा की अध्यक्षता में बुधवार को एक प्रतिनिधिमंडल ने एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। जिसमें पटवार वृत स्वामाहू के तहत पड़ने घैणी शैदल पंचायत को उप तहसील बगशाड से बाहर कर करसोग तहसील में ही रखने देने की मांग की गई है। इस बारे में पंचायत की बैठक में एक प्रस्ताव भी पारित किया गया है। जिसकी कापी ज्ञापन में साथ लगाई गई है। लोगों का कहना है कि घैणी शैदल पंचायत से वाया कांडा होकर करसोग करीब 14 किलोमीटर पड़ता है, जबकि वाया धरमोड़ होकर बगशाड करीब 20 से 25 किलोमीटर दूर पड़ता है। ऐसे में पटवार वृत स्वामाहूं के तहत पड़ने वाली घैणी शैदल पंचायत को बगशाड में शामिल करने से लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इसके अतिरिक्त प्रतिनिधिमंडल में स्वामाहूं पंचायत के लोग भी शामिल थे। ये भी स्वामाहूं पंचायत को बगशाड से बाहर कर करसोग में ही रहने की मांग कर रहे हैं। हालांकि लोगों ने बगशाड में उप तहसील खोले जाने का स्वागत किया है, लेकिन बगशाड उप तहसील में शामिल किए गए स्वामाहूं पटवार इससे बाहर करने की भी मांग की गई है। इससे पहले जनता पटवार वृत बखरौट के तहत पड़ने वाली ग्राम पंचायत बखरौट व दछेहन पंचायत के एक मुहाल को उप तहसील बगशाड में मिलाएं जाने पर अपना विरोध जता चुकी है। यहां की जनता ने भी मुख्यमंत्री से बखरौट पटवार वृत व दछेहण पंचायत के एक मुहाल को करसोग में ही रखे जाने आग्रह किया है।

ग्राम पंचायत घैणी शैदल की प्रधान दीक्षा शर्मा का कहना है कि हाल ही में जो नई उप तहसील खोली गई है। इसका जनता विरोध नहीं कर रही है, लेकिन पटवार वृत स्वामाहूं जो उप तहसील बगशाड मिलाया गया है। इसके तहत घैणी शैदल पंचायत भी पड़ती है। इस तरह से यहां के लोगों को उप तहसील बगशाड दूर पड़ती है, जबकि घैणी शैदल से करसोग सिर्फ 14 किलोमीटर ही पड़ता है। ऐसे में घैणी शैदल पंचायत को करसोग में ही रहने दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here