मुख्यमंत्री ने यूएनओडीसी के दो शोध प्रकाशनों का हिन्दी अनुवाद जारी किया

0
156

शिमला। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां संयक्त राष्ट्र ड्रग एंड क्राइम कार्यालय (यूएनओडीसी) की वैश्विक परियोजना जीएलओ स्मार्ट के तहत दो शोध प्रकाशनों, ग्लोबल सिंथेटिक ड्रग्स रिपोर्ट 2020 तथा क्षेत्रीय अवलोकनः एशिया और ओशिनिया 2020 का हिंदी अनुवाद जारी किया। ग्लोबल स्मार्ट कार्यक्रम (यानि सिंथेटिक्स माॅनिटरिंग, एनालिसिस, रिपोर्टिंग एंड ट्रेंड्स) का उद्देश्य सदस्य राज्यों की क्षमता में सुधार, प्रबंधन, विश्लेषण, रिपोर्ट और अवैध सिंथेटिक दवाओं की जानकारी साझा करना है। कार्यक्रम का दक्षिण एशिया घटक पिछले वर्ष शुरू किया गया था।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने राज्य की कानून प्रवर्तन एजेंसियों को नशीली दवाओं के बढ़ते खतरे से लड़ने में सहायता करने के लिए यूएनओडीसी द्वारा किए गए सहयोग की सराहना की। उन्होंने कहा कि राज्य ने उनकी अध्यक्षता में नशा निवारण बोर्ड का गठन किया है और नई ड्रग पाॅलिसी भी तैयार की है, जिसे जल्द ही जारी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नशीले पदार्थों की तस्करी के उन्मूलन के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए यूएनओडीसी के सहयोग और भागीदारी की आशा करती है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि यूएनओडीसी द्वारा साझा की गई जानकारी और कानून प्रवर्तन एजेंसियों एवं फोरेंसिक प्रयोगशालाओं को प्रशिक्षित करने के लिए किए गए प्रयास सराहनीय हैं। उन्होंने कहा कि नशा मुक्त समाज का निर्माण करना प्रत्येक नागरिक, विशेषकर युवा पीढ़ी का कर्तव्य है।

इस अवसर पर यूएनओडीसी स्मार्ट कार्यक्रम के वैश्विक प्रमुख, मार्टिन राल्थेलहुबर, वियना से आॅनलाइन माध्यम से शामिल हुए और स्मार्ट कार्यक्रम के विभिन्न घटकों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह दोनों प्रकाशन स्मार्ट द्वारा किए गए पहले हिन्दी अनुवाद हैं, जिन्हें हिमाचल प्रदेश नशा निवारण बोर्ड के आग्रह पर तैयार किया गया है ताकि राज्य में इनकी व्यापक स्तर पर पहुंच सुनिश्चित की जा सके। उन्होंने यूएनओडीसी की ओर से नशीली दवाओं के खिलाफ लड़ाई में निरंतर सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया।

दक्षिण एशिया के लिए यूएनओडीसी के क्षेत्रीय कार्यालय के कानून प्रवर्तन विशेषज्ञ जयंत मिश्रा ने पिछले एक वर्ष के दौरान कार्यालय द्वारा आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों का संक्षिप्त विवरण दिया।

हिमाचल प्रदेश नशा निवारण बोर्ड के संयोजक ओम प्रकाश शर्मा ने कानून प्रवर्तन एजेंसियों के अधिकारियों को प्रशिक्षण देने के लिए यूएनओडीसी का आभार व्यक्त किया।

अतिरिक्त मुख्य सचिव, राज्य कर एवं आबकारी जे.सी. शर्मा और राज्य कर एवं आबकारी आयुक्त एवं सदस्य सचिव, हिमाचल प्रदेश नशा निवारण बोर्ड यूनुस इस अवसर पर उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here