उपायुक्त आशुतोष गर्ग स्वास्थ्य विभाग की टीम सहित पहुंचे ऐतिहासिक गांव मलाणा

0
129

कुल्लू। उपायुक्त आशुतोष गर्ग सोमवार प्रातः काल स्वास्थ्य विभाग की टीम को साथ लेकर  कुल्लू के ऐतिहासिक गांव मलाणा पहुंचे। मकसद था मलाणा वासियों को कोरोना वैक्सीन के लिए प्रेरित कर उन्हें घर द्वार पर वैक्सीन प्रदान करना।  आशुतोष गर्ग ने बताया कि दूरदराज के इस ऐतिहासिक गांव में बहुत कम लोगों ने वैक्सीनेशन करवाया है। मलाणा के लोग स्वास्थ्य केंद्र तक आने में परहेज कर रहे हैं, इसलिए यह जरूरी है कि माप-अप राउंड के दौरान गांव में घर द्वार पर लोगों का वैक्सीनेशन करने के प्रयास किए जाएं। उपायुक्त ने प्रत्येक व्यक्ति को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया, उन्हें बारीकी से वायरस के खतरों के बारे में समझाया और वैक्सीन से इसके बचाव के प्रति भी जागरूक किया। आशुतोष गर्ग की यह मुहिम रंग लाई और एक दिन में ही मलाणा गांव के 200 लोगों ने कोरोना वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त की।  आशुतोष गर्ग ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम मंगलवार को भी मलाणा गांव में शेष लोगों का पूरा दिन वैक्सीनेशन करेगी। उन्होंने कहा वैक्सीनेशन को लेकर मलाणा के लोगों में काफी उत्साह दिखाई दिया और बड़ी संख्या में लोग गांव के देवस्थल में एकत्र हुए, जिसे वैक्सीनेशन के लिए निश्चित किया गया था।  उन्होंने कहा कि मलाणा ग्राम पंचायत के चुने हुए प्रतिनिधियों ने भी वैक्सीनेशन के इस विशेष अभियान में प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का पूरा समर्थन और सहयोग किया। इसके लिए उपायुक्त ने चुने हुए प्रतिनिधियों सहित गांव के सभी लोगों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा की जिला में वैक्सीनेशन के शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल कर लिया गया है, लेकिन मलाणा गांव के जो लोग वैक्सीन की पहली डोज से अभी तक छुटें हैं उन्हें कवर करने के पुरजोर प्रयास किए जा रहे हैं।  उन्होंने उम्मीद जताई कि विशेष अभियान के दूसरे दिन गांव के शत प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन कर लिया जाएगा।उपायुक्त ने कहा कि वैक्सीन प्रत्येक व्यक्ति के लिए जरूरी है तभी हम तीसरी लहर से अपना बचाव कर पाएंगे। उन्होंने मलाणा वासियों से आग्रह किया कि प्रत्येक व्यक्ति अपना वैक्सीनेशन करवाएं जिससे हम अपने बच्चों को भी सुरक्षित रख पाएंगे। उन्होंने कहा कि 18 प्लस आयु के प्रत्येक व्यक्ति को वैक्सीन लगवाना  जरूरी है। वैक्सीन कोरोना से बचने का एकमात्र सुरक्षा कवच है। वैक्सीन के उपरांत यदि व्यक्ति को कोरोना संक्रमण होता भी है तो कम से कम व्यक्ति की जान को कोई खतरा नहीं होगा। उपायुक्त के साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सुशील चंद्र ने भी मलाणा के लोगों को वैक्सीन के महत्व के बारे में बताया और उन्हें वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की भ्रांतियों से बाहर निकलकर कोरोना का सुरक्षा कवच वैक्सीन की डोज सभी लोग लगवाएं। उन्होंने जिला में 100 फ़ीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली दोस्त प्रदान करने के लिए जिला वासियों का आभार व्यक्त किया।मलाणा वासियों को वैक्सीन प्रदान करने के लक्ष्य पर संतोष जताते हुए आशुतोष गर्ग ने कहा कि गांव के देवस्थल पर पूरा दिन उत्सव की तरह माहौल बना रहा और क्योंकि 2 दिन राजपत्रित अवकाश था जिसके चलते सभी लोगों की मौजूदगी गांव में दिखाई दी। स्थानीय ग्राम पंचायत प्रधान राजू राम, मोतीराम तथा उप प्रधान सहित ग्रामीणों ने  मलाणा पहुंचने पर उपायुक्त का भव्य स्वागत किया। डीसी की मौजूदगी को लेकर लोग काफी प्रसन्न दिखाई दिए और उपायुक्त से अपनी अनेक अन्य समस्याओं के बारे में भी बातचीत करते हुए दिखाई दिए। उपायुक्त ने कहा कि मलाणा की कई मायनों में राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान है। उन्होंने कहा कि मलाणा का एक अपना इतिहास है और इस क्षेत्र के वैभव को बना कर रखना सभी का दायित्व है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here