बृद्वजनों, बीमार व दिव्यांगजनों को मोबाईल वैन से घर के समीप देंगे कोरोना वैक्सीन की डोज: आशुतोष गर्ग

0
119

कुल्लू। जिलाधीश आशुतोष गर्ग ने कहा कि अगले तीन दिनों के दौरान जिला की 18 प्लस की शत-प्रतिशत आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज प्रदान करने के प्रयास किए जाएंगे। इस संबंध में बुलाई गई विशेष बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग से कहा कि जिला में वैक्सीन से छूटे सभी व्यक्तियों की पहचान तुरंत से करके उनकी शारीरिक अवस्था को ध्यान में रखते हुए वैक्सीन लगाने के प्रबंध किए जाएं। इस अभियान को सफल बनाने के लिए सभी आशा व आंगनवाड़ी कार्यकर्ता संबंधित क्षेत्रों में बुजुर्गों, बीमार अथवा विशेष रूप से सक्षम व्यक्तियों का पता लगाकर खण्ड चिकित्सा अधिकारी अथवा किसी भी चिकित्सक को तुरंत से अवगत करवाएंगे। उन्होंने कहा कि जिला में तीन मोबाईल वैन की व्यवस्था की गई है जो घर-द्वार जाकर बुजुर्ग लोगों को वैक्सीन लगाने का काम करेगी। इन वैन में वैक्सीन तथा स्वास्थ्य कर्मी उपलब्ध रहेंगे। ये वैन कुल्लू, नग्गर व आनी चिकित्सा खण्डों में तैनात की गई हैं।
आशुतोष गर्ग ने कहा कि जिला में निर्धारित लक्ष्य को पहले ही हासिल कर लिया गया है और अभी तक लगभग 3.13 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज प्रदान की जा चुकी है जबकि 92 हजार से अधिक लोगों को दोनों डोज लगा दी गई हैं। उन्होंने कहा कि कुछ ही लोग पहली डोज से छूटे हैं और इनमें बड़ी आयु के बुजुर्ग, गंभीर रूप से बीमारी से ग्रस्त अथवा विशेष तौर पर सक्षम लोगों में से हैं और इनका पता लगाकर कोरोना वैक्सीन घर-द्वार के समीप लगाई जा रही है। उन्होंने कहा कि गत सोमवार को मोबाईल वैन के माध्यम से बिजली महादेव के बंदल में 250 लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज प्रदान की गई। इसके अलावा, जिला के विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में हर रोज कोरोना वैक्सीन लगाई जा रही है और लोगों में वैक्सीन को लेकर काफी उत्साह है। उन्होंने कहा कि डोर-टू-डोर वैक्सीनेशन अभियान में बीते दो दिनों के दौरान 77 लोगों को वैक्सीन प्रदान की गई।
उपायुक्त ने आम जनमानस से अपील की है कि कोई एक व्यक्ति भी ऐसा न हो जिसे कोरोना वैक्सीन न लगी हो। इसके लिए पंचायती राज संस्थानों व स्वयं सेवी संस्थाओं से भी अपील की गई है कि छूटे व्यक्तियों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करें, उन्हें स्वास्थ्य केन्द्र तक लाएं अथवा मोबाईल वैन के लिए स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करें। उन्हांेंने कहा कि तीसरी संभावित लहर से केवल और केवल कोरोना वैक्सीन ही सुरक्षित रख सकती है। प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह जरूरी है कि वैक्सीन लगवाएं ताकि स्वयं भी सुरक्षित रह सके और बच्चों को भी सुरक्षित रख सकें।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बैठक में जिला में कोरोना की स्थिति व इससे निपटने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में विस्तारपूर्वक चर्चा की। उपायुक्त को अवगत करवाया कि यदि भविष्य में कोरोना के मामले बढ़ते हैं तो स्वास्थ्य अधोसंरचना इससे निपटने के लिए कितनी पर्याप्त है।
अतिरिक्त उपायुक्त शिवम् प्रताप सिंह, एमएस डॉ. नरेश व डॉ. अतुल सहित अन्य अधिकारी भी बैठक में उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here