सरकार कर रही मिड डे मील वर्कर्स का शोषण..

यूनियन का धरना प्रदर्शन , मासिक मानदेय बढ़ाने के लिए रखी मांगे ...दी चेतावनी नहीं मानी मांगें तो की जाएगी घेराबंदी

0
196


प्रदेश में राजधानी शिमला सहित अन्य जिलों में आज मिड डे मील वर्कर्स ने अपनी मांगों को लेकर जिला और ब्लॉक स्तर पर प्रदर्शन किया। वर्कर्स ने केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ नारेेबाजी करते हुए सरकार से 7500 रुपये मासिक वेतन देेेनेे की मांग की है साथ ही कोविड-19 के चलते आइसोलेशन वार्डस और होम कोरेंटिन में सेवारत कर्मचारियों को प्रतिदिन 600 रुपये दिहाड़ी देने की मांग रखी है। उन्होंने सरकार को उनकी मांगे जल्द से जल्द पूरी करने की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगों को लेकर संज्ञान नहीं लिया गया तो सरकार के खिलाफ घेराबंदी करते हुए लगातर प्रदर्शन किया जाएगा।

यूनियन की प्रदेश महासचिव हिमी देवी ने कहा है कि केंद्र व प्रदेश सरकारें मिड डे मील वर्कर्स का जमकर शोषण कर रही हैं। देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है ऐसे में मिड डे मील वर्कर्स अपनी जान जोखिम में डाल कर फील्ड पर डटे हुए हैं। वर्कर्स घर-घर जा कर सूखा राशन बांट रहे हैं लेकिन सरकार इस के बदले में कोई भुगतान नहीं कर रही है। साथ ही देश के कई राज्यों में जहां-जहां कोरेंटिंन और आइसोलेशन वार्ड में मरीज रखें गए हैं वहां भी मिड डे मील वर्कर निःशुल्क काम कर रहे हैं ,उन्हें वेतन नहीं दिया जा रहा है। उनका वेतनमान केवल 2हज़ार रुपये है बावजूद उसके उन्हें वेतन नहीं मिल पा रहा है और उन्हें आर्थिक तंगी में गुजारा करना पड़ रहा है।उन्होंने कहा कि आज पूरे देश मे 26 लाख वर्कर काम कर रहे हैं और सरकार उनका शोषण कर रही है। इन कर्मचारियों के पास रोजगार का अन्य कोई साधन नहीं है।


उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने 30 ऑकटूबर 2019 को नोटिफिकेशन जारी किया था कि मिड डे मील वर्कर को 10 महीने की जगह 12 महीने का वेतन दिया जाए लेकिन राज्य सरकार ने इस दिशानिर्देश पर कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया है जबकि वर्ष 2020 का भी आधा समय गुजर गया है और प्रदेश की सरकार ने कोई संज्ञान नहीं लिया है। उन्होंने प्रदेश सरकार से हाई कोर्ट के फैसले को जल्द ही लागू किए जाने की मांग की साथ ही कोरोना काल में ड्यूटी दे रहे वर्कर्स को प्रतिदिन 600 रुपये दिहाड़ी देने की मांग की है। यूनियन ने मासिक वेतन 7500 रुपये देने की भी मांग प्रदेश सरकार के समक्ष रखी है।

यूनियन ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार ने शीघ्र ही उनकी मांगों को नहीं माना तो  यूनियन सरकार का घेराव करेगी और तब तक यह घेराबंदी जारी रहेगी जब तक सरकार वर्कर्स की मांगें नहीं मान लेती है साथ ही यूनियन आंदोलन को तेज करने में कोई गुरेज नहीं करेगी।


 इसमें सीटू प्रदेशाध्यक्ष विजेंद्र मेहरा,उपाध्यक्ष जगत राम,मिड डे मील यूनियन प्रदेश महासचिव हिमी देवी,बालक राम,राम प्रकाश,अनिल,अमित कुमार,सुनीता देवी आदि मौजूद रहे। प्रदर्शन के बाद यूनियन ने देश के प्रधानमंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किए। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here