हिंदू बन कर पहले की शादी बाद में गौ मांस खाने के लिए किया मजबूर..लव जिहाद इन शिमला

एफआईआर दर्ज , विश्व हिंदू परिषद ने उठाई कड़ी कार्यवाही किए जाने की मांग साथ ही पुलिस थाना छोटा शिमला द्वारा इस मामले पर कदम न उठाने पर की निंदा

0
1903

देव भूमि हिमाचल में भी अब लव जिहाद की घटनाएं तेजी से निरंतर बढ़ रही हैं। हिंदू बनकर ज़बरन धर्म परिवर्तन कर अत्याचार करने के लव जिहाद मामले प्रदेश के शांत माहौल में अपने पैर जमाने लग गए हैं। कोरोना काल में ही राजधानी शिमला में लव जिहाद का तीसरा मामला सामने आया है। दो मामले एक ही थाना छोटा शिमला क्षेत्र से संबंधित हैं। ताजा मामला भी छोटा शिमला थाना क्षेत्र के अंतर्गत आया है जिसके तार कश्मीर से जुड़ रहे हैं जो बहुत ही चिंतनीय और गंभीर विषय है। विश्व हिंदू परिषद ने इस मामले पर कड़ा संज्ञान लिया है। परिषद ने इस मामले को लेकर छोटा शिमला थाना के  एस.आई पर कार्यवाही न करने का आरोप लगाया है और उनके द्वारा किसी प्रकार का कदम न उठाए जाने की कड़ी निंदा की है। विश्व हिंदू परिषद ने उनके खिलाफ कार्यवाही की भी मांग की है।

हिंदू बनकर देता रहा धोखा:

ताजा मामले में पीड़ित लड़की एक गरीब परिवार से है और पिता के साये से भी वंचित और असहाय है। जिसका अनुचित लाभ प्रवीण भट्ट नाम का कश्मीरी मुस्लिम युवक पिछले कई वर्षों से उठाता रहा। वह लड़की को हिन्दू बन कर धोखा देता रहा।  शादी का झांसा देकर लड़की के साथ कुकृत्य करता रहा और लड़की का गर्भपात धमका कर जबरदस्ती करवाया गया। उसका धर्म परिवर्तन करवाने के उद्देश्य से लड़के की बहन व बड़े भाई द्वारा लड़की से जबरदस्ती बंधक बना कर रोजे रखवाये गए, कलमा पढ़वाया गया व गौमांस खिलाने का प्रयास किया गया। उस दौरान तब लड़की को लड़के के मुस्लिम होने की पुष्टि हुई। लड़की के विरोध करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी। पुलिस या किसी अन्य से इस विषय में बात न करने के लिये भी धमकाया गया। जिस कारण  लड़की को अपने अपहरण और हत्या का डर सता रहा है। लड़की ने शीघ्र अति शीघ्र इस पर कानूनी कार्यवाही की गुहार लगाई है। लड़की पिछले 6 दिनों से पुलिस थाने के चक्कर काट रही थी लेकिन पुलिस द्वारा कोई भी कार्यवाही नहीं की गई। विश्व हिन्दू परिषद के दबाव बनाने के बाद पुलिस द्वारा एफआईआर लिखी गई।

पहले भी आ चुका है मामला:

इस घटना से पहले भी एक अन्य मामला फरवरी 2020 में भी इसी थाने के अंतर्गत आया था जिसकी एफआईआर भी विश्व हिंदू परिषद के दबाव के बाद दर्ज की गई थी। उस मामले पर भी अभी तक कोई  कार्यवाही नहीं हुई। विश्व हिंदू परिषद ने इस सारे विषय में छोटा शिमला थाने में तैनात एस.आई की भूमिका को गैरजिम्मेदाराना बताया है जिसके कारण इस तरह के विषयों पर कोई भी कार्यवाही हो पाती।

कड़ी कार्यवाही की उठाई मांग:

विश्व हिंदू परिषद, हिमाचल प्रदेश ने इस प्रकार के अकर्मण्य एंव निष्क्रिय कर्मचारियों पर तुरन्त कार्यवाही की मांग की है। विश्व हिंदू परिषद हिमाचल प्रदेश सरकार से आग्रह करता है कि इस प्रकार की घटनाओं पर तुरंत कार्यवाही की जाए जिससे भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो पाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here