मूर्ति में नहीं घट रूप में आएंगी सिंहवाहिनी मां

किया जाएगा सभी परंपराओं का पालन, भक्तों को नहीं होगी अंदर जाकर दर्शन करने की अनुमति

0
213
मां श्यामला

शिमला के प्राचीन मंदिरों में शामिल कालीबाड़ी मंदिर के 197 सालों के इतिहास में यह पहली बार है जब मां दुर्गा मूर्ति रूप में नहीं घट अर्थात कलश रूप में आएंगी। कलश में ही मां का आह्वान कर विधिवत पूजा पद्धति का निर्वाह किया जाएगा। हर वर्ष पूजा के लिए विशेष तौर पर बनाए जाने वाले पंडाल में मां नहीं विराजेंगी बल्कि इस वर्ष मां मुख्य गर्भगृह में ही घट के रूप में पूजी जाएंगी। दुर्गा पूजा की रीतियों के अनुसार संधि, वरण और विसर्जन पूजा की सारी विधियां निभाई जाएंगी पर इस दौरान भक्तगण मौजूद नहीं रहेंगे। सदियों से कालीबाड़ी में चली आ रही पूजा में शामिल हो भक्तगण कृतार्थ होते रहे हैं लेकिन इस साल कोविड-19 के चलते भक्तगणों को मां श्यामला के दिव्य दुर्गा रूप से महरूम रहना पड़ेगा। भक्तों को द्वार से ही मां के दर्शन कर संतुष्ट रहना पड़ेगा।

सदियों से मनाई जा रही है दुर्गा पूजा :

कालीबाड़ी में सदियों से मां दुर्गा की पूजा चली आ रही है। हालाकिं गर्भगृह में मां श्यामला काली के मनोहारी रूप में विराजती हैं लेकिन सितंबर-ऑक्टूबर में शरद माह में पड़ने वाले नवरात्र के छठें नवरात्र से मां दुर्गा रूप में उनकी पूजा शुरू होती है और दशहरे के दिन तक मां की पूजा बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है। इन पांच दिनों में मां की विधिवत पूजा की जाती है। मां इन पांच दिनों के लिए मां लक्ष्मी ,मां सरस्वती, गणेश और कार्तिक के साथ विराजती हैं और उनके लिए खूबसूरत पंडाल बनाया जाता है। दुर्गा पूजा के लिए अगस्त महीने से ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं। कोलकाता से आए मूर्तिकार मां की मूर्ति गढ़ते हैं और छठें नवरात्र से षोडशोउपचार के बाद मां की आराधना शुरू होती है।

हर वर्ष इस तरह सजता था मां दुर्गा का पंडाल लेकिन इस वर्ष नहीं सजेगा मां का पंडाल

नहीं टूटी कभी पूजा की परंपरा:

मंदिर के पूर्व पंडित सुधांशु शेखर भट्टाचार्य के अनुसार मां के मंदिर को बने 197 साल हो चुके हैं और तब से लेकर अब तक मां की पूजा की परंपरा चली आ रही है। इस दौरान मात्र एक बार ही ऐसा समय आया जब मां की मूर्ति निर्माण के लिए मूर्तिकार किसी कारणवश नहीं आ पाए। उनके अनुसार तब उस समय मंदिर में कार्यरत पंडितों ने ही किसी तरह मिट्टी से मां की मूर्ति बना कर पूजा संपन्न की थी। उनके अनुसार मां की पूजा की परंपरा कभी नहीं टूटी है।

प्रशासन के दिशानिर्देशों का होगा पूरा पालन:

विधान मंदिर कमेटी के उपाध्यक्ष मृणाल कुमार चौधरी ने कहा कि इस वर्ष कोविड-19 के चलते इस साल मंदिर में दुर्गा पूजा के लिए मूर्ति स्थापना नहीं की गई है। मंदिर के गर्भगृह में कलश स्थापित कर मां दुर्गा की पूजा की पूजा की जाएगी। उन्होंने कहा कि नवरात्र को लेकर सरकार व जिला प्रशासन के निर्देशानुसार सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। मंदिर में सेनेटाइजेशन, सीसीटीवी कैमरा और मंदिर में प्रवेश करने वाले श्रद्धालु को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। श्रद्धालु मंदिर में सिर्फ 10 सेकेंड के लिए ही दर्शन कर पाएंगे। मंदिर में श्रद्धालुओं को किसी तरह का प्रसाद चुनरी, चूड़ी, नारियल चढ़ाने की अनुमति नहीं है और ना ही भक्तों को प्रसाद दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here