कोरोना अपडेट्स … 7 मामलों ने बढ़ाया कोरोना ग्राफ

0
204

 प्रदेश में आज सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण के सात नए मामले दर्ज किए गए। इन सब मामलों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं जो कि प्रदेश के लिए संतोषजनक स्तिथि नहीं है।  प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 66 हो गई है। मंगलवार को कांगड़ा में 5 और हमीरपुर जिले में 2 पॉजिटिव मामलें आए हैं। इस बात की पुष्टि आर.डी धीमान अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग द्वारा रात 9 बजे जारी किए गए मेडिकल बुलेटिन में की गई है।

कांगड़ा में आए आज 5 नए मामलें:

प्रदेश के सबसे बड़े कांगड़ा जिले के लिए मंगलवार का दिन कोरोना का ग्राफ बढ़ा गया। आज यहां एक के बाद एक 5 नए मामलें जांच रिपोर्ट में पॉजिटिव पाए गए। कांगड़ा में अब इन 5 मामलों के साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15 हो गई है। इनमें से एक पुलिस विभाग में बतौर हैड कांस्टेबल कार्यरत है जबकि दूसरा टांडा मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर है। प्रदेश में कोरोना योद्धाओं का कोरोना की गिरफ्त में आने का यह पहला मामला है।

हमीरपुर में आए दो नए मामले :

हमीरपुर के सुजानपुर के दो व्यक्तियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। दोनों की ही ट्रेवल हिस्ट्री हॉट स्पॉट दिल्ली से है। दोनों व्यक्ति 30 अप्रैल को दिल्ली से सुजानपुर आए थे। दोनों को आरसीएच भोटा भेज दिया गया है। प्रशासन इनकी कॉन्टैक्ट डिटेल्स का पता लगाने में जुट गया है और साथ ही इनके गांव के आसपास के क्षेत्र को सील कर दिया गया है।

प्रदेश में कुल 25 एक्टिव मामलें :

प्रदेश में एक्टिव कोरोना मामलें बढ़कर 25 हो गए हैं जबकि कोरोना संक्रमण के कुल मामलें 66 हैं। ऊना में अब तक सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव के 17 मामलें आए हैं जिनमें से 16 ठीक हो चुके हैं और अब एक ही एक्टिव केस रह गया है। वहीं ऊना के बाद कांगड़ा जिले में 15 संक्रमण के मामलें हैं और कोरोना के  सबसे ज्यादा 10 एक्टिव मामलें हैं। चार ठीक हो चुके हैं जबकि एक की मृत्यु हुई है। वहीं चंबा में भी लगातार कोरोना मामलों के ग्राफ में बढ़ा है यहां 12 संक्रमण के मामले  हैं जिन में से 6 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि एक्टिव केस भी 6 हैं।

यहां नही है कोरोना :

प्रदेश के तीन जिले किन्नौर, कुल्लू और लाहौल स्पीति अभी तक कोरोना की मार से बचा हुआ है। केवल यह तीन जिले ही ऐसे हैं जो अब तक एक भी कोरोना केस नहीं आया है। जबकि सिरमौर और सोलन जिले  कोरोना मुक्त हो चुके हैं। राजधानी शिमला भी ग्रीन जोन क्षेत्र था लेकिन मंडी के सरकाघाट की महिला की सैंपलिंग यहां के अस्पताल आईजीएमसी में होने के कारण इस मामले को शिमला जिले के अंतर्गत माना जा रहा है। 

सोशल डिस्टेंसिंग अपनाए, सतर्क रहें सुरक्षित रहें TMnewshub

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here