बस किराए वृद्धि को लेकर सीटू का धरना प्रदर्शन ..

सरकार से की निर्णय वापस लेने की मांग , प्रदेश स्तर पर प्रदर्शन करने की दी चेतावनी

0
292

सीटू राज्य कमेटी ने प्रदेश सरकार द्वारा बस किराये में की गई वृद्धि को लेकर कड़ा विरोध प्रदर्शन किया है। सीटू ने आज जिलाउपायुक्त कार्यालय को लेकर प्रदर्शन किया और जम कर नारेबाजी करते हुए किराया वृद्वि के फैसले को कम करने की मांग की। सीटू राज्य कमेटी ने सरकार के इस निर्णय की निंदा करते हुए इस फैसले को जनता पर कुठाराघात करार दिया है। सीटू ने ऐलान किया है कि इस जनता विरोधी कदम के खिलाफ मजदूर सड़कों पर उतरकर प्रदेश ,जिला और ब्लॉक स्तर पर कड़ा विरोध करेंगे।

सीटू प्रदेशाध्यक्ष विजेंद्र मेहरा ने कहा कि सरकार को कहां तो जनता को राहत देनी चाहिए लेकिन सरकार जनता पर सारा बोझ लाद कर अपनी जिम्मेवारियों से पल्ला झाड़ रही है। देश की तुलना में पहले ही हिमाचल में किराया बहुत ज़्यादा था। इसमें पच्चीस प्रतिशत वृद्धि से जनता के कमर टूट गयी है। न्यूनतम किराया सात रुपया करना भी जनता से धोखा है। केंद्र सरकार द्वारा एक्साइज ड्यूटी व प्रदेश सरकार द्वारा वैट में कटौती से पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर अंकुश लग सकता था परंतु सरकार ने किराया वृद्धि करके सारा बोझ जनता पर डाल दिया। उन्होंने कहा कि जब से यह सरकार आई है तब 1 रुपये 45 पैसे प्रति किलोमीटर बस किराया था और आज सरकार किराया बढ़ाते हुए 2 रुपये 15 पैसे तक ले आई है। अब यह बढ़ कर जबकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें आज से 5 वर्ष पूर्व की तुलना में काफी कम है।


उन्होंने कहा कि कोरोना संकट ने प्रदेश की आर्थिक कमर पूरी तरीके से तोड़ कर रख दी है। निजी सेक्टर पूरी तरह से ठप्प हो चुका है। लोगों का रोजगार जा चुका है ऐसे में सरकार द्वारा बिजली,पानी और कूड़े की दरें बढ़ा दी गई है और अब बस का किराया बढ़ने से जनता पर और ज्यादा बोझ पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सरकार का यह निर्णय बेहद निंदनीय है। सीटू इसका पुरजोर विरोध करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here