प्रधानमंत्री के हिमाचल दौरे में सभी प्रोटोकोल का किया गया सख्ती से पालन

संक्रमित पाए गए लोगों को मानक संचालन प्रक्रिया के अन्तर्गत किया गया पृथक।

0
452

भाजपा मंत्रियों के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से प्रदेश सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई है। बंजार के विधेयक के कोरोना संक्रमित होने की जानकारी छुपाने को लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और स्वास्थ्य विभाग सवालिया निशाने पर है।

प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां जानकारी दी कि प्रधानमंत्री के दौरे के लिए सभी प्रोटोकोल एसपीजी निर्धारित करती है। हिमाचल प्रदेश सरकार ने अटल टनल रोहतांग के शुभारंभ के लिए प्रधानमंत्री के लाहौल-स्पीति और कुल्लू जिलों के दौरे के दौरान प्रोटोकोल के सभी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन किया।

आज सरकार के प्रवक्ता ने इस संबंध में कहा कि अटल टनल उद्घाटन के लिए कोविड-19 के सभी दिशानिर्देशों का पूरी तरह से पालन किया गया था। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि प्रोटोकोल के दिशा-निर्देशों के मुताबिक 48 घण्टों के भीतर उन लोगों का कोविड नेगेटिव परीक्षण करना आवश्यक है जो प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में शामिल हो और इसके अन्तर्गत कार्यक्रम में शामिल सभी लोगों का कोविड टेस्ट किया गया। कोविड परीक्षण के परिणाम एसपीजी को सांझा किए गए और स्वीकृति के उपरान्त कोविड नेगेटिव लोगों को ही सभी स्थलों पर कार्यक्रम में शामिल होने की अनुमति प्रदान की गई।

उन्होंने कहा कि जो लोग संक्रमित पाए गए उन्हें मानक संचालन प्रक्रिया के अन्तर्गत पृथक किया गया। उन्होंने कहा कि बंजार के विधायक ने कोविड-19 के कोई भी प्रत्यक्ष लक्षण नहीं दिखाई दिए। इसके बावजूद संक्रमित पाए जाने के बाद उनको तुरन्त आइसोलेट किया गया। उन्होंने 3 अक्तूबर को किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं लिया और न ही किसी विशिष्ट व्यक्ति से भेंट की।

प्रवक्ता ने कहा कि बंजार के विधायक के कोविड परीक्षण के साथ-साथ सभी अन्य लोगों का भी परीक्षण किया गया जो इस समारोह में शामिल हुए। उनका टेस्ट नेगेटिव पाया गया और मुख्य समारोहों में शामिल होने की अनुमति प्रदान की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here