बाजार में चल रहे 50 और 200 के नकली नोट, RBI ने चेताया, ऐसे करें असली की पहचान

0
29

बाजार में काफी धड़ल्ले से 50 और 200 रुपए के नकली नोट चल रहे हैं। ऐसे में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ( Reserve Bank of India) जनता को जागरूक करने के लिए आगे आई है। उन्होंने नकली नोटों की पहचान बताई है। दरअसल आरबीआई वित्तीय जागरूकता सप्ताह (Financial Awareness Week) बना रही है। इस मौके पर क्षेत्रीय निदेशक लक्ष्मीकांत राव ने महत्वपूर्ण जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि अगर बैंक की सेवा से खुश नहीं है या किसी तरह की समस्या है तो शिकायत कर सकते हैं। राव ने कहा कि रिजर्व बैंक किसी भी संस्था के खिलाफ लोकपाल की शिकायत करने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा। उन्होंने जागरूकता सप्ताह समारोह में करेंसी के असली और नकली के पहचान के बारे में बताया। रिजर्व बैंक के असिस्टेंट जनरल मैनेंजर बी महेश ने एक कार्यक्रम में कहा कि मार्च-अप्रैल के बाद सभी पुराने नोट चलन से बाहर हो जाएंगे। हालांकि इसको लेकर अब तक कोई ऑफिशियल बयान नहीं आया है। 100 रुपए, 10 रुपए और 5 रुपए के पुराने नोट के बदले नए नोट आ चुके हैं। फिलहाल 100, 10 और 5 के नए और पुराने दोनों नोट मार्केट में चल रहे हैं। गौरतलब है कि आरबीआई ने 2019 में 100 रुपए के नए नोट जारी किया। तब साफ कहा कि पहले सौ रुपए की करेंसी भी चलती रहेगी।

ऐसे करें असली या नकली नोट की पहचान

लक्ष्मीकांत ने बताया, ’50 रुपए के असली नोट में सामने के भाग में मूल्य वर्ग में 50 के साथ आर-पार मिलान, देवनागरी में 50 लिखा, बीच में महात्मा गांधी की फोटो, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया, गैर-धातुयी सुरधा धागा होता है।’ साथ ही दाएं तरफ अशोक स्तंभ का प्रतीक चिन्ह, इलेक्टोइप 50 वॉटरमार्क, संख्या पैनल ऊपर बाएं तरफ और नीचे दाएं तरफ छोटे से बढ़ते आकार में लिखे होते हैं। 50 रुपए के नोट में पीछे तरफ छपने वाला साल, स्वच्छ भारत का लोगो और स्लोगन, भाषा पैनल और आकार 66*135 मिमि होता है। जबकि 200 रुपए के नोट में लगभग सभी चीजे वहीं होती है। इसमें नोट तिरछा करने पर हरे रंग का धागा ब्लू कलर में दिखाई देता है।

आम जनता यहां कर सकती है शिकायत

अगर बैकिंग सेवाओं से संतुष्ट नहीं हैं या फिर बैंक से जुड़ी कोई समस्या है, तो बैंकिंग शिकायत प्रणाली के बारे में जानना जरूरी है। शिकायत के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) द्वारा विनियमित किसी भी संस्था के ख‍िलाफ लोकपाल के समक्ष आप अपनी शिकायत दर्ज करने के लिए https://cms.rbi.org.in पर लॉग ऑन करें। ऐसी ही तमाम महत्‍वपूर्ण जानकारियां आरबीआइ ने वित्तीय जागरुकता सप्ताह के दौरान साझा की, जो हम आपको बता रहे हैं। भारतीय रिजर्व बैंक के अधिकारियों ने बताया कि आरबीआइ द्वारा प्रत्येक वर्ष वित्तीय जागरुकता सप्ताह का आयोजन किया जाता है। इस दौरान आरबीआइ के क्षेत्रीय निदेशक लक्ष्मीकांत राव ने वित्तीय विषयों पर विस्तारपूर्वक जानकारी साझा की। जागरुकता सप्ताह के दौरान दस, बीस, पचास व दौ सौ रुपये की असली व नकली करेंसी के बीच पहचान के संबंध में भी एक पुस्तिका के माध्यम से जानकारी दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here