प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत नवंबर तक जरुरतमंदों और गरीबों को सरकार देगी मुफ्त राशन

देश के नाम पीएम मोदी का 6वां संबोधन ,सतर्क रहने का किया आग्रह

0
73

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशवासियों को संबोधित किया। देश के नाम यह उनका 6वां संबोधन था। पीएम मोदी ने देश में अनलॉक-2 और कोरोना वायरस की स्तिथि पर बोलते हुए कहा कि देश अब अनलॉक-2 की तरफ बढ़ रहा है और ऐसे में जब कोरोना के मामलों में बढ़ौतरी हुई है तब हमें और अधिक सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दुनिया के अनेक देशों की तुलना में भारत बेहतर स्तिथि में है। 5 लाख कोविड-19 के मामले होने के बावजूद स्तिथि संभली हुई है। समय पर किए गए लॉकडाउन और अन्य फैसलों ने भारत में लाखों लोगों का जीवन बचाया है।

अनलॉक में बरती लापरवाही:

उन्होंने कहा कि लॉक डाउन तक कोरोना की स्तिथि सामान्य गति पर थी लेकिन जैसे ही अनलॉक हुआ, व्यक्तिगत और सामाजिक व्यवहार में लापरवाही बढ़ी है। पीएम मोदी ने कहा कि देश में कोरोना से होने वाली मृत्यु दर का आंकलन करें तो दुनिया के अनेक देशों की तुलना में भारत संभली हुई स्थिति में है। लॉकडाउन के चलते कोविड-19 के सुरक्षानिर्देशों के मद्देनजर पहले हम मास्क,दो गज की दूरी और 20 सेकेंड तक दिन में कई बार हाथ धोने को लेकर बहुत सतर्क थे लेकिन अनलॉक होते ही लापरवाही के मामले बढ़ते चले जा रहे हैं। जब हमें ज्यादा सतर्कता की जरूरत है, तो लापरवाही बढ़ना, चिंता का कारण है।

बरतनी होगी अधिक सतर्कता:

पीएम मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान बहुत गंभीरता से नियमों का पालन किया गया था। बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार,स्थानीय निकाय की संस्थाओं और देश के नागरिकोंको फिर से उसी तरह की सतर्कता दिखाने की जरूरत है। विशेषकर कन्टेनमेंट जोंस पर हमें बहुत ध्यान देना होगा और जो भी लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं ,हमें उन्हें टोकना होगा,रोकना होगा और समझाना भी होगा। उन्होंने मास्क की महत्ता बताते हुए कहा उदाहरण दिया कि एक देश के प्रधानमंत्री पर 13 हजार रुपए का जुर्माना इसलिए लग गया, क्योंकि वो सार्वजनिक जगह पर बिना मास्क पहने गए थे। भारत में भी स्थानीय प्रशासन को इसी चुस्ती से काम करना होगा। ये 130 करोड़ देशवासियों के जीवन की रक्षा करने का अभियान है। भारत में गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है।

त्योहार के सीजन को देखते हुए नवंबर तक दिया जाएगा मुफ्त राशन :

पीएम मोदी ने आगे त्योहारों के सीजन को देखते हुए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत राशन देने की योजना को नवंबर महीने तक दिए जाने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि त्योहार जरूरतें भी बढ़ाता है और खर्चे भी बढ़ाता है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक, यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए। 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली ये योजना, अब जुलाई- अगस्त- सितंबर- अक्टूबर- नवंबर में भी लागू रहेगी। सरकार द्वारा इन 5 महीनों के लिए, 80 करोड़ से ज्यादा गरीब और जरूरतमंदों को हर महीने परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त मुहैया कराया जाएगा और साथ ही प्रत्येक परिवार को हर महीने एक किलो चना भी मुफ्त दिया जाएगा।

किसान और करदाताओं को दिया श्रेय:

पीएम मोदी ने किसान और करदाताओं का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार गरीब और
मुफ्त अनाज दे पा रही है तो इसका श्रेय दो वर्गों ” अन्नदाता किसान”और “ईमानदार करदाता “को दिया है। इन दो वर्गों के कारण ही देश कोरोना जैसी गंभीर महामारी से निपटने में कामयाब हो पा रहा है।

सतर्कता अपनाने का किया आग्रह :

पीएम नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से सतर्कता और सावधानी बरतने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि सभी स्वस्थ रहें, दो गज की दूरी का पालन करें। साथ ही गमछा ,फेस कवर और मास्क का हमेशा उपयोग करें। उन्होंने आग्रह करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही न बरतें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here