स्मार्ट सिटी पर न हो रसा कशी: शांता कुमार

0
158

shanta kumar
स्मार्ट सिटी पर हो रही राजनीति से सांसद शांता कुमार खफा है, पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि ये सभी के लिए अच्छी खबर है कि धर्मशाला का चयन स्मार्ट सिटी के लिए हुआ है, शांता कुमार ने कहा कि मैं स्मार्ट सिटी का श्रेय लेने वाले लोगों के मुद्दें में नहीं पड़ना चाहता। केंद्रीय विश्वविद्यालय पर बोलते हुए शांता कुमार ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है, कि पिछले छह सालों से यह मामला लटका हुआ है, देहरा और धर्मशाला उनके लिए दोनों ही बराबर है,बच्चों के भविष्य को लेकर राजनीति नहीं होनी चाहिए, उन्होंने कहा कि सेंट्रल यूनिवर्सिटी मामले में केंद्र सरकार ने रिपोर्ट तलब की है, शांता कुमार ने कहा कि मोदी सरकार ने दो सालों में काफी विकास कार्य किए हैं, काँग्रेस के कार्यकाल में मात्र भ्रष्टाचार के मुद्दे ही देश में छाए रहे। विकास कहीं नजर नहीं आया। योजना कोई नहीं, हर वर्ष घोटाला, मंत्री तक जेल में। कांग्रेस ने जो भ्रष्टाचार रूपी काला दाग भारत को दिया उसे दो साल में मिटाना कांग्रेसियों को रास नहीं आ रहा। भ्रष्टाचार शासन के बाद दो साल तक सुशासन देना ऐतिहासिक है और आज तक कांग्रेस का कोई भी नेता इस शासन पर कोई ऊंगली तक नहीं उठा सका है। योजनाओं की आलोचना के लिए मात्र हवा में तीर मारे जा रहे हैं।

सांसद शांता कुमार ने अटल बिहारी वाजपेयी व नरेंद्र मोदी की तारीफ की है। उन्होंने कहा कि दोनों प्रधानमंत्रियों ने देश को बेहतर सुशासन दिया है,जो कांग्रेस 10 सालों में नहीं दे सकी। इन दोनों प्रधानमंत्रियों के कार्यकाल में देश में उन्नति हुई है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 22 दलों के साथ मिलकर देश के विकास पर कार्य किया था तो वर्तमान प्रधानमंत्री ने अपनी आधुनिक सोच के बल पर देश को कई विकासत्मक योजनाएं दी हैं, उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में देश में गरीबी दूर होगी, जो कांग्रेस अपने लंबे शासनकाल में नहीं कर सकी। शांता कुमार शनिवार को धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने केंद्र सरकार अपने दो वर्ष के कार्यकाल को पूरा करने पर भाजपा देश भर में विकास पर्व मना रही है,जबकि कांग्रेस देश में हो रहे बदलाव में केंद्र सरकार का साथ देने की बजाय इसका विरोध कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here