सरकार ने 5,000 मीट्रिक टन अरहर दाल के अतिरिक्‍त आयात का फैसला किया

0
495

Arhar Dal

सरकार ने आज हुई एक उच्‍चस्‍तरीय समिति की बैठक में दालों के मूल्‍यों पर नियंत्रण और इसकी उपलब्‍धता बढ़ाने के लिए 5,000 मीट्रिक टन अतिरिक्‍त अरहर दाल के आयात का फैसला किया है। 10,000 मीट्रिक अरहर और उड़द दाल का आयात पहले से ही पंक्ति में है और 23 सितम्‍बर, 2015 तक इसकी पहली खेप पहुंच जाएगी।

सरकार ने वाणिज्‍य, खाद्य, कृषि, राजस्‍व विभाग और मंत्रिमंडल सचिवालय के प्रतिनिधियों के साथ उपभोक्‍ता मामले सचिव की अध्‍यक्षता में मूल्‍यों को कम करने और आवश्‍यक वस्‍तुओं की उपलब्‍धता पर करीबी निगरानी रखने के लिए एक साप्‍ताहिक निगरानी तंत्र का भी गठन कर दिया है।

समिति ने एमएमटीसी, एसएफएसी और नैफेड जैसी एजेंसियों को खुदरा दुकानों के माध्‍यम से आयातित दालों की आपूर्ति के लिए सफल और राज्‍यों के साथ सम्‍पर्क बनाये रखने के निर्देश दिये। विभिन्‍न बाजारों में आवश्‍यक वस्‍तुओं के खुदरा और थोक मूल्‍यों की दीर्घकालिक और मध्‍यम अवधि में समीक्षा के साथ-साथ आवश्‍यक वस्‍तुओं की उपलब्‍धता को बढ़ाने के लिए दामों में कमी लाने पर विचार-विमर्श किया गया। आवश्‍यक खाद्य वस्‍तुओं पर निगरानी रखने पर भी चर्चा की गई।

उपभोक्‍ता मामलों के सचिव ने वीडियो वार्तालाप के माध्‍यम से राज्‍य सरकारों के साथ 3000 टन प्‍याज के साथ-साथ आयाति‍त दालों की वितरण व्‍यवस्‍था पर विचार-विमर्श किया। भारत सरकार ने दालों और प्‍याजों के मूल्‍यों को कम करने और बाजार में इनकी उपलब्‍धता बढ़ाने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। दालों पर भंडार की सीमा पहले से ही तय की जा चुकी है और राज्‍य सरकारों से कालाबाजारी और जमाखोरी के खिलाफ आवश्‍यक वस्‍तु अधिनियम के तहत सख्‍त कदम उठाने की अपील की गई है। दालों के निर्यात को प्रतिबंधित कर दिया है और दालों के आयात पर कोई शुल्‍क नहीं है।

घरेलू बाजारों में प्‍याज की उपलब्‍धता को बढ़ाने के संदर्भ में न्‍यूनतम निर्यात मूल्‍यों को 250 अमरीकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन से बढ़ाकर 425 अमरीकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन और इसके बाद 700 अमरीकी डॉलर प्रति मीट्रिक टन कर दिया गया। प्‍याज के लिए भंडार की एक निश्चित सीमा को भी जुलाई, 2016 तक एक वर्ष के लिए बढ़ा दिया गया है।

8 सितम्‍बर, 2015 को समिति ने अपनी पहली बैठक में 30 रूपये प्रति किलो की दर से 280 सस्‍ते गल्‍ले की दुकानों और 38 रूपये प्रति किलो की दर से दिल्‍ली में सफल की 300 दुकानों पर प्‍याज की आपूर्ति जारी रखने का फैसला किया था। इसके अलावा 35 रूपये प्रति किलो की दर से डीएमएस के 120 बिक्री केन्‍द्रों और पूरी दिल्‍ली में 27 मोबाइल वैनों के माध्‍यम से 35 रूपये प्रति किलो की दर से प्‍याज उपलब्‍ध कराये जाने का फैसला किया था।

सरकार के द्वारा उठाये गये विभिन्‍न कदमों के बाद प्‍याज की कीमतों में कमी आई है। यहां तक दालों का संबंध है कि आने वाले दिनों में बाजार संकेतों को देखते हुए दालों के मूल्‍यों में भी कमी आने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here