शराब की बोतल पर 10 रुपए का सेस, ग्रीन टैक्स भी वसूलेगा एमसी शिमला

0
90

नगर निगम शिमला का 247.44 करोड़ रुपए का बजट पेश

शिमला

नगर निगम शिमला अपनी आय बढ़ाने के लिए शराब पर सेस बढ़ाने के साथ बाहरी राज्यों से आने वाली गाड़ियों से भी ग्रीन टैक्स वसूलेगा। कांग्रेस शासित नगर निगम  ने गुरुवार को वित्त वर्ष 2024-25 के लिए अपना पहला बजट पेश किया है। मेयर सुरेंद्र चौहान ने 247.44 करोड़ रुपये का बजट सदन में पेश किया।  नगर निगम का आज जो बजट पेश हुआ है, उसमें शराब पर सेब बढ़ाया गया है। शराब  पर सेस बढ़ाकर प्रति बोतल 2 रुपये से 10 रुपये किया गया है।  वहीं नगर निगम ने बाहरी राज्यों से शिमला आने वाले वाहनों से ग्रीन फीस  वसूलने का फैसला लिया है। इससे निगम को हर साल 10 करोड़ की आय होगी।

नगर निगम ने  शहर में अतिरिक्त पार्किंग सुविधा जुटाने के साथ ही शहर में सड़कों को चौड़ा करने के काम करने का भी फैसला लिया है।  नगर निगम ने शहर में आवारा कुत्तों की समस्या से निपटने के लिए इनका पंजीकरण करने का भी फैसला लिया है।   इसके साथ ही शहर में आवारा कुत्तों की गणना भी नगर निगम कराएगा। शहर में आवारा कुत्तों की नसबंदी की मुहिम चलाने का फैसला भी नगर निगम ने लिया है।

मेयर बोले, एमसी का बजट कर मुक्त

वहीं नगर निगम शिमला के मेयर सुरेंद्र चौहान ने कहा कि यह बजट कर मुक्त बजट है। उन्होंने कहा कि  भरयाल में एक वेस्ट मैटेरियल के लिए प्लांट लगाया जाएगा. इसके साथ ही शिमला शहर में  बुजुर्गों के टेस्ट करने की सुविधा घर  पर दी जाएगी। इनके ब ब्लड सैंपल टेस्ट के लिए घरों से निशुल्क लिए जाएंगे। इससे  बुजुर्गों को टेस्ट के लिए अस्पतालों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।

भाजपा पार्षदों ने बजट को निराशाजनक बताया

उधर, भाजपा पार्षदों ने कांग्रेस शासित नगर निगम के बजट को निराशाजनक बताया है. भाजपा पार्षदों ने कहा कि बजट में कुछ भी नया नहीं हैं. इनमें शहर में पहले से चल रहे स्मार्ट सिटी परियोजनाओं के कार्यों का ही जिक्र किया गया है.  बजट से पहले पार्षदों की प्राथमिकताएं तक जानने प्रयास भी नहीं किया गया जबकि आमतौर पर बजट से पहले सभी पार्षदों से उनकी प्राथमिकताओं के बारे में पूछा जाता रहा है। यही नहीं भाजपा  पार्षदों का यह भी कहना है कि आपदा से निपटने के लिए भी बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया है जबकि पिछली बार आपदा से शहर में भारी तबाही हुई थी। नगर निगम ने आपदा से कुछ भी नहीं सीखा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here