राजनीतिक विरोधियों पर सीएम जयराम के ताबड़तोड़ शब्दबाण, आंख मारने वाला पीएम नहीं, दुश्मन की आंख नोचने वाला पीएम चाहिए

0
437

शिमला। हिमाचल में लोकसभा की सभी चारों सीटों पर फतह हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अपने विरोधियों पर निरंतर हमलावर हैं। मुख्यमंत्री की जनसभाओं में भीड़ में खूब उमड़ रही है और जनता की नब्ज पहचानते हुए जयराम ठाकुर भी तीखे शब्दबाण छोड़ रहे हैं। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि भारत देश को एक ऐसा पीएम चाहिए, जो देश की तरफ बुरी नजर से देखने वाले दुश्मन की आंख नोच ले। उन्होंने कहा कि भारत को ऐसा पीएम नहीं चाहिए, जो सदन में आंख मारने के लिए चर्चित हो रहा है। साफ है कि उनका निशाना राहुल गांधी पर था। जयराम ठाकुर ने कहा कि पिछली बार लोकसभा चुनाव में सिर्फ 44 सीटें जीतने वाली पार्टी के मुखिया राहुल गांधी इस बार प्रधानमंत्री बनने के दिन में सपने देख रहे हैं, जबकि हालत ये है कि वो लोकसभा मेंं विपक्ष के नेता का दर्जा हासिल करने लायक सीटें इस दफा भी नहीं मिलेंगी। सीएम ने कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकारों के दौर में इतना काम नहीं हुआ, जो नरेंद्र मोदी के शासनकाल में हुआ है। नरेंद्र मोदी के पांच साल के विकास कार्य छह दशकों तक कांग्रेस की सरकारों पर भारी हैं।

जयराम ठाकुर ने कहा कि भारत को एक ऐसा प्रधानमंत्री चाहिए था जो देश में सब का विकास करने के लिए ईमानदारी से प्रयास करे। मोदी एक ऐसे नेता हैं जो जाति, भाषा, प्रांत, मज़हब और क्षेत्र के आधार पर लोगों को बांटने की बजाय देश की 130 करोड़ जनता को अपना मानते हैं। वहीं, कांग्रेस लोगों को बांटने की साजिश करती रही। सीएम ने चुटकी लेते हुए कहा कि राहुल गांधी संसद के भीतर चर्चा की बजाय आंख मारने में समय गुज़ार देते थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच सालों में एक दिन भी छुट्टी नहीं की। वह 24 घंटों में से 18 घंटे काम करते हैं, जबकि राहुल गांधी देश में भूकंप, बाढ़ या तूफान से तबाही होने पर जनता को छोड़ कर थाईलैंड और इटली छुट्टियां मनाने चले जाते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले पांच सालों में प्रधानमंत्री मोदी ने देश में विकास पर जोर देने के साथ-साथ देश के दुश्मनों को सबक सिखाने की रणनीति पर अमल किया। भारत-भूटान सीमा पर ड़ोकलाम में चीनी घुसपैठ के दौरान जब हमारी सेनाएं चीन के सामने डटी थीं उस समय राहुल गांधी दिल्ली स्थित चीनी दूतावास में गुप्त बैठकें कर रहे थे। इससे कांग्रेस की नीति और राहुल गांधी की मंशा शक के दायरे में आ जाती है। उनका कहना था कि कश्मीर में सैन्य कार्रवाईयों में जिहादी आतंकवादियों के मारे जाने पर राहुल गांधी की पार्टी सेना की बजाय जिहादियों के मानवाधिकारों की वकालत करती है। पाकिस्तानी कब्ज़े वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट में भारत के हवाई हमलों में आतंकवादी अड्डे नष्ट किए जाने पर राहुल गांधी ने भारतीय सैनिकों के पराक्रम पर न सिर्फ सवाल उठाए बल्कि पाकिस्तानी रूख का समर्थन किया। उन्होंने सवाल किया कि क्या देश को ऐसा प्रधानमंत्री चाहिए। जयराम ठाकुर ने कहा कि एक ओर ऐसा प्रधानमंत्री है जिसने बचपन गरीबी में बिताया और देश व समाज के लिए लगातार काम करके आगे बढ़ा। उनके परिवार के सभी सदस्य आज भी मेहनत मजदूरी करके जिंदगी गुजारतें हैं। जबकि सोनिया गांधी और राहुल गांधी बिना कोई काम धंधा किए हजारों करोड़ की सम्पति के मालिक बनकर ऐश कर रहे हैं। राहुुल गांधी के जीजा गरीब किसानों की जमीने हड़पने का विश्व रिकॉर्ड बना चुके हैं और जमानत पर छूटे हुए हैं। उन्होंने कहा कि देश की जनता बहुत समझदार है और पिछले पांच सालों में प्रधानमंत्री मोदी के ईमानदार प्रयासों से आए बदलाव अनुभव कर रही है। इसलिए राहुल गांधी का प्रधानमंत्री बनने का सपना 23 मई को टूट जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here