पर्यटन की दृष्टि से क्षेत्र को विकसित करने के लिए सरकार प्रयासरत:मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने वाकटनाघाट में पर्यटन, आतिथ्य और सूचना प्रोद्यौगिकी उत्कृष्ट केन्द्र की आधारशिला रखीं

0
132

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज जिला सोलन के वाकनाघाट के निकट ग्राम पंचायत छावसा में 85 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले पर्यटन, आतिथ्य और सूचना प्रोद्यौगिकी के उत्कृष्टता केन्द्र की आधारशिला रखीं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह केन्द्र पर्यटन और आतिथ्य उद्योगों को बेहतर व प्रशिक्षित श्रम शक्ति प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि इस उत्कृष्ट केन्द्र में एक सूचना प्रोद्यौगिकी केन्द्र, आतिथ्य और पर्यटन के लिए उत्कृष्ट केन्द्र, प्रशिक्षण होटल, शिक्षण स्टाफ निवास, छात्र छात्रावास, स्टाफ क्वार्टर और निदेशक निवास होंगे। उन्होंने कहा कि यह केन्द्र उद्योगों की मांग के अनुसार सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षित युवाओं को तैयार करेगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रसार को फैलने से रोकने के लिए प्रदेश सरकार को कुछ कठोर निर्णय लेने पड़े हैं। उन्होंने कहा कि इस कठिन समय में भी प्रदेश सरकार ने सुनिश्चित किया है कि विकास की गति निर्बाध रूप से चलती रहे। इसलिए परियोजनाओं की आधारशिला और लोकार्पण वर्चुअल माध्यम से किए गए है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने अब निर्णय लिया है कि आयोजनों के दौरान 50 से अधिक लोगों को इक्कठा होने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने कहा कि इस भवन का निर्माण पूर्व-निर्मित संरचना (प्री फैब्रिकेटिड स्ट्रक्चर) के साथ किया जाएगा, जिसे जून, 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार इस पूरे क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से भी विकसित करने के प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि कई कम्पनियों ने इस उत्कृष्टत केन्द्र के संचालन भागीदार बनने के लिए अपनी रूचि दिखाई है। उन्होंने कहा कि संचालन भागीदारों का चयन एडीबी प्रक्रिया के दिशा-निर्देशों के अनुसार आरम्भ किया गया है और सात अन्तरराष्ट्रीय कम्पनियां और 23 अन्य संगठनों ने इस क्षेत्र में रूचि दिखाई है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि यह संस्थान उच्च आईटी कौशल जैसे अनालटिक्स, रैबोटिक्स और आर्टिफिश्यिल इन्टैलिजेंस आदि की मांग को पूरा करेगा। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश के नए उद्यमियों को इन्क्यूबेशन हब सेवाएं भी प्रदान करेगा।

तकनीकी शिक्षा और सूचना प्रोद्यौगिकी मंत्री डाॅ. राम लाल मारकण्डा ने कहा कि पर्यटन और आतिथ्य (हाॅस्पिटलिटी) के लिए यह उत्कृष्ट केंद्र देश का चौथा केंद्र होगा और यह 18 माह में बनकर तैयार होगा। उन्होंने कहा कि यह केंद्र राज्य के युवाओं को उनके कौशल उन्नयन के लिए एक वरदान साबित होगा।

विधायक व पूर्व मंत्री डाॅ. कर्नल धनी राम शांडिल ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि राज्य के युवा अपने कौशल उन्नयन के लिए सर्वोत्तम प्रशिक्षण प्राप्त करें ताकि वे अपनी आजीविका कमाने के लिए सक्षम बन सकें।

भाजपा कार्यकारी समिति के सदस्य डाॅ. राजेश कश्यप ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि यह उकृष्ट केंद्र राज्य के युवाओं को रोजगार उन्मुखी (इम्प्लाईमेंट ओरिएंटिड) शिक्षा प्रदान करने में सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के बावजूद, मुख्यमंत्री ने यह सुनिश्चित किया है कि राज्य में विकास की गति निर्बाध रूप से चले।

सोलन भाजपा मंडलाध्यक्ष मदन ठाकुर ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।

हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम के प्रबंध निदेशक रोहन चंद ठाकुर ने प्रस्तावित उत्कृष्ट केंद्र के बारे में प्रस्तुति दी।

कौशल विकास निगम के राज्य समन्वयक नवीन शर्मा, राज्य भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्षा रश्मि धर सूद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव जे.सी. शर्मा, सचिव तकनीकी शिक्षा डाॅ. अजय शर्मा, उपायुक्त सोलन के.सी. चमन व अन्य इस अवसर पर उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here