धूमल की चुप्पी से बदलने लगी है सुजानपुर की हवा

0
649


2022 में धूमल ही लड़ेंगे चुनाव

पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद अक्सर चुप है। लेकिन उनके काम ने कभी चुपी धारण नहीं की है। यहीं वो सबसे बड़ी वजह है कि सुजानपुर विधानसभा की हवा अब रूख बदल रही है। जिस रणभूमि में उन्हें हार का सामना करना पड़ा और उनके राजनीतिक जीवन पर एक विराम लगता नजर आ रहा था। उसी रणभूमि को फिर से भेदने के लिए उनकी रणनीति अब परिणाम दिखा रही है। पंचायत चुनावों में प्रेम कुमार धूमल के समर्थकों की जीत से साबित हो चुका है कि उन्होंने गांव तक अपनी पकड़ को मजबूत कर लिया है। यहीं नहीं विधानसभा के कई कांग्रेसी नेताओं को भाजपा में शामिल करके अपने विरोधी कांग्रेसी विधायक राजेंद्र राणा को चक्रव्यूह में फंसा दिया है जिसे भेदना असंभव है।
वर्ष 2022 में विधानसभा चुनाव है। सुजानपुर सीट सबसे हाॅट सीट रहेगी कि प्रेम कुमार धूमल कितने मार्जिन से जीत कर हिमाचल की राजनीति में भेजेगी। ये काफी दिलचस्प रहने वाला है। प्रेम कुमार धूमल का कथन है कि सुजानपुर के लोगों की सेवा करने के लिए हमेशा तत्पर रहे। इसी की वजह से सुजानपुर में भाजपा के साथ लोग अधिक से अधिक जुड़ रहे हैं। सुजानपुर के भाजपा कार्यकर्ता हर दिन पार्टी की मजबूती के लिए काम कर रहे है।  आपको बताते चले कि  जिला परिषद चुनावों सुजानपुर विस क्षेत्र की महिला प्रत्याशी को विजयी बनवाकर जिप चैयरमैन की कुर्सी सुजानपुर की झोली में डाल दी है। ऐसे में अब समीरपुर मंे लगातार बड़े बड़े नेता फिर से हाजरियां लगा रहे है। यहां तक कई मंत्री विधायक भी इनमें शामिल है।
खुद लिख रहे पठकथा
सुजानपुर किले का फतह करने के लिए पठकथा पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल खुद लिख रहे है। उनकी हर कार्यकर्ता से सीधे संवाद करने की नीति  कारगार साबित हो रही है। उनके विरोधी धड़े के नेता कई चर्चाएं उनके खिलाफ चलवा चुके जिनमें राज्यपाल बनाए जाने, राज्यसभा सांसद बनने की, पार्टी प्रदेशाध्यक्ष बनने की, इसके साथ ही राजनीति से सन्यांस की चर्चा भी शामिल है। लेकिन अब जब सुजानपुर की हवा प्रेम कुमार धूमल बदले रहे है तो विरोधी धड़े में यहीं चर्चा है कि सुजानपुर का चुनाव केवल प्रेम कुमार धूमल ही जीत सकते है।
लोगों को हो चुका एहसास
मुख्यमंत्री पद खोने के बाद सुजानुपर के लोगों को भारी कटाक्ष का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन सुजानपुर के सैंकड़ों लोग खुले मंचों से ये बोलना शुरू हो गए है कि मुख्यमंत्री पद खोकर जिले की नजरों में सुजानपुर के प्रति प्रेम भाव कम हुआ है। लेकिन इसी सुजानपुर ने अनुराग ठाकुर को 20 हजार मतों की लीड दिलवाकर राजेंद्र राणा की नींद भी उड़ा दी थी। कई लोग ये मन मना चुके है कि प्रेम कुमार धूमल को विजयी बनाकर विधानसभा भेंजेंगे। 

प्रेम कुमार धूमल पूर्व मुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here