गैरेज में रात बिताने को मजबूर और दादी और पोता

0
39
80 वर्षीय तारो देवी और पोता रितिक।

हमीरपुर जिले के उपमंडल नादौन की ग्राम पंचायत भूंपल के कोहला फतेहपुर गांव का गरीब परिवार खुले आसमान के नीचे रात गुजार रहा है। परिवार के मुखिया का करीब एक दशक पहले देहांत हो चुका है। मनजीत कुमार और उसकी धर्मपत्नी सुमना देवी के निधन के बाद अब उनका इकलौता बेटा रितिक कुमार है। जो अक्षम है। उसका पालन पोषण उसकी 80 वर्षीय दादी तारो देवी कर रही है। करीब तीन महीने पहले उनका कच्चा मकान बारिश के कारण ध्वस्त हो गया है।

उसके बाद से दादी अक्षम पोते को लेकर छत की गुहार लगा रही है, लेकिन अभी तक उसकी फरियाद पूरी नहीं हो पाई। बीपीएल में होने के बावजूद सरकार की गृह अनुदान की योजना का लाभ नहीं मिल पाया। दादी और पोता गांव में ही एक गाड़ी पार्क करने के लिए बनाए गए गैरेज शेड में रहने को विवश हैं। रितिक दसवीं कक्षा में पढ़ता है और बीमार रहता है। 

पंचायत प्रधान सुशील शीलू ने बताया कि परिवार काफी दयनीय स्थिति में है। इनका कच्चा मकान था, जो बारिश के कारण गिर गया है। पंचायत ने प्रधानमंत्री आवास योजना में इस परिवार का नाम बजट स्वीकृति के लिए भेजा है। मामला डीसी हमीरपुर के समक्ष भी उठाया जाएगा। एसडीएम नादौन विजय कुमार ने कहा कि इस बारे में जांच कर उचित कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। अगर सूचना सही पाई जाती है तो बीडीओ को तुरंत आगामी कार्रवाई के लिए कहा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here