गीताजंली वर्मा की पेंटिंग को पदम भूषण राम वी सुतार के हाथों ‘आर्ट वैली अवार्ड’ प्रदान

0
427


नई दिल्‍ली के सुल्‍तानपुर में स्थित गांधी आर्ट गैलरी में मूंगा फाउंडेशन की ओर से आयोजित आर्ट वैली कंपीटीशन एंड एग्जिबिशन (आर्ट वैली प्रतियोगिता व प्रदर्शनी)2017 में गीताजंली वर्मा की पेंटिंग को आर्ट वैली अवार्ड से नवाजा गया हैं। गींताजंली वर्मा को ये अवार्ड पदमश्री व पदमभूषण से अलंकृत देश के विख्‍यात मूर्तिकार राम वी सुतार ने एक सादे व गरिमापूर्ण समारोह में प्रदान किया। आर्ट वैली अवार्ड के अलावा गीतांजली वर्मा को दस हजार रुपए का कैश प्राइज भी दिया गया।

अवार्ड मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए गीताजंली वर्मा ने कहा कि ये राज्‍य से बाहर राष्‍ट्रीय स्‍तर की पहली प्रदर्शनी थी व पहली ही प्रदर्शनी में उनकी पेंटिंग को अवार्ड के लिए चुना गया । इसके अलावा पदम भूषण अलकृंत विख्‍यात मूर्तिकार राम वी सुतार से अवार्ड लेना उनके लिए गौरव की बात हैं।
मूंगा फाउडेशन की ओर से आयोजित आर्ट वैली कंपीटीशन एंड एग्जिबिशन (आर्ट वैली प्रतियोगिता व प्रदर्शनी)2017 में देश भर से चार दर्जन के करीब कलाकारों ने अपने पेटिंग्‍ज को प्रदर्शित किया गया था।

गीताजंली वर्मा हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन के अर्की तहसील की गांव पलानियां की रहने वाली हैं। उसने हिमाचल प्रदेश विश्‍वविद्यालय से 2016 में विजुअल आर्ट में एमए की डिग्री ली। गीताजंली के अलावा वाराणसी के रतन दीप चक्रवर्ती और दिल्‍ली के रवजोत सिंह को भी आर्ट वैली अवार्ड प्रदान किया गया। पदम भूषण अलंकृत राम वी सुतार ने इन दोनों को भी दस –दस हजार रुपए का कैश प्राइज दिया। इसके अलावा बाकी सभी कलाकारों को मेडल,स्‍मृति चिन्‍ह और प्रमाणपत्र भी प्रदान किया गया ।दस –दस हजार रुपए का कैश प्राइज नाइन फिश आर्ट गैलरी के सौजन्‍य से दिया गया। विख्‍यात मूर्तिकार सुतार ने समारोह में आए सभी कलाकारों से कहा वो प्रकृति का अवलोकन किया करें व जो देखा उसे ध्‍यान में रखें । उन्‍होंने कहा कि निरंतर अभ्‍यास करने से कोई भी उंचाई हासिल की जा सकती हैं। राम वी सुतार को 1999 में पदमश्री व 2016 में पदम भूषण से नवाजा गया था। इस मौके पर मूंगा फाउंडेशन के फाउंडर जयेश शर्मा ने कहा कि फाउंडेशन आगे से ज्‍यादा से ज्‍यादा प्रदर्शनियों का आयोजन करेगा व देश के कलाकारों की कलाकृतियों को अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर ले जाने का प्रयास किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here