एचपीयू 11 महीने के लंबे अंतराल के बाद छात्रों के खुलेगा

0
223

आज एचपीयू 11 महीने के लंबे अंतराल के बाद छात्राें के लिए खुलेगी। अभी विज्ञान के ही स्टूडेंट कैंपस आएंगे। ऐसे में जाे राैनक गायब थी, वे फिर से लाैट आएगी। वहीं, छात्र संगठन भी कैंपस में अब सक्रिय हाे जाएंगे। विवि प्रशासन की ओर से कैंपस में छात्राें की पढ़ाई के लिए और साेशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए सभी तरह की तैयारियां शुरू कर दी हैं।एचपीयू में प्रशासन की ओर से हाॅस्टल खाेलने के आदेश ताे दे दिए गए हैं, लेकिन साथ में शर्त रखी गई है कि अभी सिर्फ प्रैक्टिकल वाले छात्राें काे ही हाॅस्टल में रहने दिया जाएगा। वहीं, यूजीसी के नए नियमाें के अनुसार अब एचपीयू सहित काॅलेजाें में हाॅस्टलाें के कमरे शेयरिंग के आधार पर आवंटित नहीं किए जा सकेंगे। जबकि एचपीयू और काॅलेजाें के हाॅस्टलाें में अभी एक कमरे में दाे से तीन स्टूडेंट रखे जा रहे हैं।

हाॅस्टलाें में लागू है शेयरिंग सिस्टम

कमराें की कमी के कारण एचपीयू में शेयरिंग सिस्टम लागू किया गया है। यूजीसी की ओर से जारी आदेश में साफ कहा गया है कि सुरक्षा और स्वास्थ्य निवारक उपायों का सख्ती से पालन करते हुए हॉस्टल सिर्फ वहां ही खोले जाएंगे, जहां बेहद आवश्यक हैं। हॉस्टल में कमरे साझा करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। जिन छात्रों में लक्षण हैं, उन्हें किसी भी परिस्थिति में हॉस्टल में रुकने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

संस्थानों में नहीं होगी 100 फीसदी उपस्थिति

यूजीसी कॉलेज खोलने को लेकर पहले ही निर्देश जारी कर चुका है। यूजीसी के आदेश के अनुसार सभी रिसर्च कोर्सेस के छात्र और साइंस टेक्नोलॉजी कोर्सेस के पोस्ट ग्रैजुएट छात्राें को पहले कॉलेज बुलाया जा सकता है, क्योंकि इनकी संख्या अन्य कोर्सेस के छात्रों से कम होती है। किसी भी संस्थान में छात्रों के 50 फीसदी से अधिक की उपस्थिति नहीं होगी।

स्टूडेंट्स को बनाए रखने होगी दूरी, मास्क जरूरी

ऐसे छात्राें, जिनमें कोरोना संक्रमण के लक्षण होंगे, उन्हें कैंपस में रहने, यूनिवर्सिटी या कॉलेज हॉस्टल में रुम शेयर करने की अनुमति नहीं होगी। सोशल डिस्टेंसिंग समेत सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। छह फीट की दूरी बनाए रख नी होगी। मास्क अनिवार्य होगा। अगर विवि और कॉलेज कंटेनमेंट जोन से बाहर हैं तो ही उन्हें खोलने की इजाजत दी जा सकती है। कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्राें और शिक्षकों को कॉलेज में प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी। छात्राें और स्टाफ को भी सलाह दी जाए कि वह कंटेनमेंट जोन में न जाएं। फैकल्टी, स्टाफ और छात्राें को आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।

बाकी विभाग चरणबद्ध तरीके से खुलेंगेः वीसी

एचपीयू के वीसी प्राे. सिकंदर कुमार का कहना है कि यूनिवर्सिटी के शैक्षणिक विभागों को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा। जिसमें सबसे पहले विज्ञान विषयों और जिनमें प्रैक्टिकल जरूरी हों उन्हें खाेला जाएगा। उन्होंने कहा कि हाॅस्टल इन्हीं विषयों के छात्रों को इस शर्त पर खोल दिए जाएंगे कि छात्रावासों में रहने वाले सभी छात्र नियमों का पालन कड़ाई से करेंगे। ताकि वैश्विक महामारी कोविड-19 से बचाव हो सके। उन्होंने कहा कि विवि में दोनों तरीके (ऑनलाइन और ऑफलाइन) से पढ़ाई जारी रहेगी।

ऑनलाइन कक्षाओं से बाेर हाे गए थे, अब कुछ नया सीखने काे मिलेगा

छात्रा राखी कुमारी, छात्र नरेश, प्रिया, आंचल, पंखुड़ी और सिमरन कहती हैं कि वे 11 महीने से ऑनलाइन कक्षाएं लगा रही हैं। ऐसे में घर में रहते रहते बाेर हाे गए थे। अब जब कैंपस खुल गए हैं ताे हमें कुछ नया सीखने काे मिलेगा। काेराेना संकट के चलते हम यूनिवर्सिटी डेज मिस कर रहे थे। उनका कहना है कि कक्षाएं लगाने के साथ साथ लाइब्रेरी में पढ़ाई करना और कैंपस की कैंटीन में दाेस्ताें के साथ खाने के लिए बैठना बहुत अच्छा लगता है। ये माैके पूरी लाइफ में दाेबारा नहीं मिलते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here